बरसात में न खाएं मछली-अंडा

बरसाती मौसम में नमी के कारण बैक्टीरियी अधिक पनपते हैं, जिससे इंफेक्शन व बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में इस दौरान खानपान पर खास ध्यान देने की सलाह दी जाती है। खासतौर पर बरसाती मौसम में स्ट्रीट फूड, मछली, अंडा, हरी सब्जियों से परहेज रखने को कहा जाता हैं। सेलिब्रिटी और करीना कपूर की न्यूट्रिशनिस्ट रूजुता दिवेकर ने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें उन्होंने मानसून डाइट के बारे में बताया। चलिए आपको बताते हैं इस मौसम में स्वस्थ रहने के लिए क्या खाएं और किससे करें परहेज

मानसून में दूध से परहेज क्यों?

बरसात के मौसम में पशुओं को दिया जाने वाला हरा चारा बैक्टीरिया और कीटाणुओं का घर बन जाता है। यह दूध की अच्छी गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है इसलिए इन दिनों दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आप दूध पीना चाहते हैं तो उसे तरह उबालकर हल्दी मिलाकर पीएं।

ना खाएं आम

आयुर्वेद के अनुसार, आम की तासीर गर्म होती है, जो वात और कफ दोषों को बढ़ाती है। इससे गंभीर मुंहासे की समस्या हो सकती है। वहीं, बरसाती मौसम इसमें कीड़े लग जाते हैं इसलिए इससे परहेज करना ही बेहतर होगा।

घ्बरसात में न खाएं मछली-अंडा

मानसून में मांस, अंडे और मछली से परहेज करें। दरअसल, मानसून मौसम मछली का प्रजनन समय होता है, इसलिए इस दौरान सी-फूड से परहेज रखने की सलाह दी जाती है। हो सके तो इस दौरान प्याज और लहसुन से भी जितना हो सके परहेज रखें।

बाहर के खाने से करें परहेज

बरसात के ठंडे-ठंडे मौसम में मसालेदार स्नैक्स, चटपटा और बाजार का फास्ट फूड खाने को जी ललचाता है लेकिन रूजुता दिवेकर इन दिनों घर का भोजन खाने की सलाह देती है। हालांकि आप ये सभी चीजे खा सकते हैं लेकिन घर का बना। बारिश के मौसम में बाहर का खाने से बचें क्योंकि इससे आप बीमार पड़ सकते हैं।

आहार में इन चीजों को करें शामिल

न्यूट्रिशनिस्ट कहती हैं कि हो सके तो मानसून मौसम में कुट्टू, राजगिरा,  केले का आटा खाएं, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। रतालू, शकरकंद और अरबी जैसी सब्जियों का सेवन करें।

मानसून में खाएं सूरन की सब्जी

1. बरसाती मौसम में हरी सब्जियां नहीं खाने चाहिए क्योंकि इसमें कीट व कीड़े पनपने की संभावना रहती है। ऐसे में आप अनाज, दालें, सूरन - अम्बाडी की सब्जी खा सकती हैं, जिसमें कई विटामिन, आयरन, जिंक, कैल्शियम भरपूर मात्रा में होते हैं, जो इम्यूनिटी बढ़ाने में भी मददगार है।

2. हफ्ते में कम से कम 1 बार उबली हुई मूंगफली, भिगी हुई दाल, मक्की के दाने, दही, खीरा, कद्दू, सूरन की सब्जी, अरबी और जड़ वाली सब्जियां खाएं।

3. महीने में एक बार मोदक, पटोली, सूजी का हलवा, भजनी वड़ा, अरबी के पत्तों के पकौड़े या सब्जी, अजवाइन, मशरूम, बैंबू आदि का सेवन करें।

posted by - दीपिका पाठक