डीएम ने सीएचसी छपिया व पीएचसी मसकनवा का किया औचक निरीक्षण

गोंडा । मंगलवार को डीएम मार्कण्डेय शाही ने सीडीओ शशांक त्रिपाठी, ज्वाइन्ट मजिस्ट्रेट सूरज पटेल के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र छपिया तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मसकनवा का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में सीएचसी छपिया में डीएम को तमाम अव्यवस्थाएं मिलीं।निरीक्षण के दौरान स्वयं सीएचसी अधीक्षक डा0 आलोक सिंह अपनी ड्यूटी से गैरहाजिर मिले। काफी देर बाद जब सीएसी अधीक्षक आए तो डीएम ने उनसे उनके द्वारा की जाने वाली ओपीडी का रजिस्टर मांगा। रजिस्टर का अवलोकन करने पर ज्ञात हुआ कि सीएचसी अधीक्षक डा0 आलोक सिंह द्वारा विगत 22 जुलाई से कोई भी ओपीडी नहीं की गई हैं। ओपीडी न किए जाने के बारे में डीएम द्वारा पूछने पर वे निरूत्तर रहे और बहाने बनाते नजर आए।

उपस्थिति पंजिका का निरीक्षण करने पर एमओ डा0 संदीप सिंह अनुपस्थित मिले जबकि एमओ डा0 जयप्रकाश वर्मा गैरहाजिर तो मिले ही साथ ही उनके द्वारा उपस्थिति रजिस्टर पर 11 अगस्त की उपस्थिति दो दिन पहले ही दर्ज कर दी गई थी। इससे नाराज डीएम ने वहीं पर सीएचसी प्रभारी को जमकर फटकार लगाई तथा मौजूद सीएमओ को निर्देशित किया कि वे सीएचसी अधीक्षक के खिलाफ कार्यवाही हेतु शासन को तत्काल संदर्भित करें। निरीक्षण के दौरान पाचं डाक्टरों के सापेक्ष मात्र दो डाक्टर ही ओपीडी करते पाए गए।सीएचसी छपिया का निरीक्षण करने के बाद डीएम सीधे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मसकनवा पहुंचे। वहां पर उन्होंने अस्पताल के भवनों की मरम्मत कार्यों का जायजा लिया तथा सीमएओ को निर्देशित किया कि वे खण्ड विकास अधिकारी छपिया से समन्वय बनाकर अस्पताल की रंगाई-पुताई व अन्य मरम्मत कार्य कराएं। इस दौरान प्रभारी खण्ड विकास अधिकारी जेपी यादव व थानाध्यक्ष छपिया राकेश सिंह उपस्थित रहे।