इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने भारतीय टीम और उसकी आक्रामकता की जमकर तारीफ की

भारतीय कप्तान विराट कोहली निजी रूप से खुद भले ही रन नहीं बना रहे हों, लेकिन उनकी कप्तानी में टीम शानदार प्रदर्शन कर रही है। कोहली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने के बाद टीम इंडिया ने अपने घर में इंग्लैंड को मात दी और फिर आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) के फाइनल में प्रवेश किया। भारतीय टीम अब इंग्लैंड दौरे पर पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से आगे चल रही है। भारत और इंग्लैंड के बीच तीसरा टेस्ट 25 अगस्त से लीड्स में शुरू होना है। विराट कोहली की अगुवाई में भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने भी मौजूदा भारतीय टीम और उसकी आक्रामकता की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा है कि मौजूदा भारतीय टीम ऐसी नहीं है, जिसे परेशान या तंग किया जा सके। हुसैन ने कहा कि कोहली भले ही इंटरनेशनल टीमों या उनके फैन्स के बीच फेमस न हों, लेकिन वह भारत का नेतृत्व करने के लिए 'सही समय पर सही व्यक्ति' हैं। 

नासिर हुसैन ने डेली मेल के लिए लिखे अपने कॉलम में कहा, ' विराट कोहली मौजूदा समय का सबसे सही खिलाड़ी हैं, जो भारतीय टीम को सही तरीके से लीड कर रहा है। उनके खिलाड़ी, खासतौर पर गेंदबाज टीम में एक आक्रामक कप्‍तान चाहते हैं। उन्‍होंने लॉर्ड्स टेस्‍ट के दौरान कुछ ऐसा ही किया। मौजूदा भारतीय टीम शायद पिछली टीमों जैसी नहीं है, जिसे आसानी से परेशान या तंग किया जा सके। ये एक ऐसी टीम है, जो ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी व फैन्स द्वारा की जानी वाली परेशानी को भी बर्दाश्‍त नहीं करती। जब टिम पेन कहते हैं कि इंतजार करो, हम गाबा में तुमसे मिलेंगे तो ये चीज भारतीय टीम को और ज्यादा उकसाती है। हाल में जब इंग्लैंड के कोच ​क्रिस सिल्वरवुड ने कहा क‍ि हम सीरीज के बाकी बचे मैचों में भारत की आग का जवाब आग से देंगे तो इस बात ने भारतीय टीम को और ज्‍यादा आक्रामक कर दिया।'

क्रिकेटर से कमेंटेटर बने नासिर हुसैन का मानना है कि विराट कोहली भी कभी-कभी बहक जाते हैं और उन्हें यह याद दिलाने की जरूरत है कि वह 'खेल नहीं चलाते' हैं। उन्होंने कहा, ' विराट कोहली की आक्रामकता विरोधी टीम को समाप्‍त करने जैसी होती है। वो जिस भी टीम के खिलाफ खेलते हैं उनके साथ ऐसा ही करते हैं। मुझे लगता है कि ज्यादा लोग इसे नापसंद करेंगे। इंग्लिश दर्शक भी उसे लाइक नहीं करेंगे लेकिन उन्‍हें इससे फर्क नहीं पड़ता। वो लाइन को क्रॉस करने का प्रयास कर सकते है। हो सकता है कि ये देखना अच्‍छा नहीं लगे। जैसा कि मैं कह चुका हूं कि मुझे क्रिकेटर्स का जुनून और एक सीमा के अंदर आक्रामकता देखना अच्छा लगता है।'