सावन झूला उत्सव सानन्द हुआ समापन

चित्रकूट। परमहंस संत श्री रणछोरदास जी महाराज के आश्रम श्री रघुवीर मन्दिर में सावन माह की एकादशी से पूर्णिमा तक पांच दिवसीय झूला उत्सव उल्लास पूर्वक मनाया गया। युगल सरकार की सुन्दर झांकी को दिव्य परिधानों एवं अलंकारों से सजाया गया।

झूला उत्सव पर मन्दिर परिसर को फूलों और रोशनी से सजाकर भगवान को झूला में बैठाकर नित्य आरती-कीर्तन व प्रतिदिन शाम को चित्रकूट एवं दूर से आये कलाकारों ने सुमधुर स्वरों में भजन एवं गीतों से भगवान के चरणों में मनमोहक प्रस्तुतियां दी। कोरोना गाइडलाइन के पालन से ये आयोजन सीमित लोगों के बीच किया गया। इस कार्यक्रम का जीवंत प्रसारण आनलाइन हुआ। इससे दूर क्षेत्र में रहने वाले गुरुदेव के शिष्य परिवार के लोगों ने अपने घरों में दर्शन लाभ लिया।

झूला उत्सव पर ट्रस्टी डाॅ बीके जैन ने अन्तिम दिन रक्षाबंधन पर सभी कलाकारों एवं श्रोताओं को बधाई दी। पांच दिनों तक संगीत की सुमधुर स्वरों से सभी को मंत्रमुग्ध करने वाले कलाकारों को ट्रस्ट की ओर से श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। झूला उत्सव में पूरे वर्ष सभी को इंतजार रहता है। युगल सरकार के चरणों में लोक कलाकारों के सावन के झूला गीत और भजन सुनने का आनन्द अलौकिक होता है।