महिलाओं ने जिलाधिकारी के साथ की हक की बात

बलरामपुर। मिशन शक्ति का तीसरा चरण जनपद में महिलाओं द्वारा जिलाधिकारी से हक की बात के साथ प्रारंभ हुआ। हक की बात में जनपद के विभिन्न विकास खंडों से कलेक्ट्रेट सभागार में आयी हुई राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत स्वयं सहायता समूह की सभी महिलाओं से जिलाधिकारी श्रुति द्वारा एक-एक करके बात की गई। जिलाधिकारी से वार्ता के दौरान सभी महिलाएं के चेहरों पर खुशी तथा उत्साह दिखाई दिया। सभी महिलाओं द्वारा दिल खोलकर जिलाधिकारी से अपने मन की बात और हक की बात कही गई। इस दौरान महिलाओं ने बताया कि कैसे उनको स्वयं सहायता समूह के माध्यम से स्वरोजगार एवं उत्थान हेतु घर,परिवार और समाज से संघर्ष करना पड़ा। उनको घर की डेहरी पार करने में कई संघर्षों का सामना करना पड़ा। किंतु वे डरी नहीं,भयभीत नहीं हुई और अपने स्वाभिमान और खुद की पहचान के लिए स्वयं सहायता समूह से जुड़ी। आज कठिन परिश्रम एवं लगन से स्वयं सहायता समूह के द्वारा कुटीर उद्योग के माध्यम से आमदनी प्राप्त हो रही है। जिसके कारण उनका परिवार आर्थिक रूप से सशक्त हो रहा है। आज घर,परिवार एवं समाज में उनको सम्मान मिल रहा है। हक की बात में थारू बाहुल्य क्षेत्र से आई महिलाओं ने भी बताया कि कैसे लंबे संघर्ष के बाद आज वह अपने पैरों पर खड़ी है। थारू क्षेत्र की महिलाओं द्वारा जिलाधिकारी से घर के पुरुषों द्वारा शराब पीने की शिकायत की गई।उन्होंने कहा कि घर के पुरुष के शराब पीने के कारण आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा जिलाधिकारी से समूह के लिए एक निर्धारित ड्रेस कोड की मांग की गई। इस अवसर पर सभी महिलाओं द्वारा ग्राम पंचायत स्तर पर होने वाली परेशानियों एवं दिक्कतों के बारे में जिलाधिकारी को अवगत कराया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि सभी महिलाओं आत्मनिर्भर हो व स्वयं की पहचान बनाए। घर की महिलाएं सशक्त रहेंगी तो पूरा परिवार सशक्त होगा। जिलाधिकारी द्वारा सभी स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को प्रशासन द्वारा हर संभव मदद का आश्वासन दिया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि ग्राम स्तर पर आने वाली सभी समस्याओं को प्राथमिकता के साथ दूर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि समाज में बराबरी होना बहुत जरूरी है,बेटा-बेटी में भेदभाव ना किया जाए। इस दौरान उपायुक्त एनआरएलएम सूबेदार सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी सतीश चंद्र, अनिल द्विवेदी व अन्य संबंधित अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।