करोना

टिकी हैं टिके पर जंग करोना की।

कोई भागे लेने से तो कोई कतराए इससे।

किसी को लेना नहीं हैं,किसी को मिला नहीं हैं।

कोई लेता नहीं हैं डर कर, कोई लेता नहीं उसे समझ कर भी।

समझो ये भाई को टीका बहना ने लगाया हैं।

टिका हैं गारंटी बचने की करोना से।

कोई न ले इसे अज्ञान से,

कोई न ले अभिमान से।

जो  न समझे टिके का महत्व,

वो रोएगा जीवन भर।

अपने और अपनो के लिए हैं ये टिका।

उसके बिना है ये जीवन फीका।

समदार ने लिया हैं टिका,

ना समज ने ही की हैं इसकी टीका।

टीका से बचो अपनाओ टिका ,

करो सम्मान अपनी जिंदगी का।

अपने साथ साथ समाज को भी बचाओ।


जयश्री बिर्मी