॥ बदनामी ॥

चन्द बेईमानों ने मिलकर

ईमान की नीयत कर दी बेईमान

ईमान बेचारा तड़प रहा बेबस

बचा ना पाया अपनी ईमान


चन्द गद्दारों ने मिलकर

कर दी है सरकार की नींद हराम

राष्ट्रभक्तो में मातम है छाया

गद्दारों ने कर दी है ये नीच काम


चन्द भ्रष्ट पदाधिकारियों ने मिलकर

कर दी है दफ्तर को बदनाम

रिश्वतखोरी में डुबा दफ्तर

रिश्वतखोरों को मिल रहा है सम्मान


चन्द अलगाववादियों ने मिलकर

देश की अखंडता को कर रहें है परेशान

निर्दोष जनता मर रही है

खुद को कर ली है गुमनाम


चन्द मुनाफाखोरों ने मिलकर

बाजार को कर ली है अपने नाम

मिलावट की सामग्री बेचकर

मुनाफा कमा रहे है सरेआम


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार

9546115088