डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज छुईमुई का पौधा, कई रोगों में कारगर

लाजवंती एक ऐसा बारहमासी पौधा, जो छूने पर मुरजा जाता ही इसलिए इसे छुईमुई या शर्मीली भी कहा जाता है। एंटीवायरल और एंटीफंगल गुणों से भरपूर यह पौधा बवासीर, कब्ज, डायबिटीज जैसी तमाम बीमारियों का रामबाण इलाज है। यहां हम आपको छुईमुई के आयुर्वेदिक फायदे और इस्तेमाल करने का तरीका बताएंगे, जिससे आप भी कई बीमारियों में इसका यूज कर सकते हैं।

छूने पर मुरझा जाता है फिर कैसे करें इस्तेमाल?

छुईमुई एक संवेदनशील पौधा है जो छूने पर सिकुड़ जाता हैं लेकिन थोड़ी देर बाद यह अपने आप ही खुल जाता है।। यह कांटेदार पौधा जमीन से 2-3 फीट ऊपर तक उठा होता है और इसकी गहरे हरे रंग की पत्तियां इमली की तरह दिखती हैं। 

चलिए अब आपको बताते हैं इसके फायदे

एंटी डिप्रेसेंट

छुईमुई का पौधा तनाव, एंग्जायटी और डिप्रेशन में बहुत कारगार है। साथ ही यह याददाश्त बढ़ाने और मानसिक बीमारियों को भी दूर करता है। इसके लिए आप सुबह-शाम एक चम्मच  छुईमुई के पौधे का अर्क लें।

डायबिटीज रखे कंट्रोल

100 ग्राम छुईमुई की पत्तियों को 300 मि.ली. पानी में उबालकर काढ़ा बनाएं। दिन में 2 बार इसका सेवन करें। इससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होगा जो डायबिटीज मरीजों के लिए फायदेमंद है।

बवासीर का इलाज

प्राचीन काल से बवासीर के लिए छुईमुई का इस्तेमाल होता आ रहा है। इसके लिए छुईमुई के पत्तों को सुखाकर चूर्ण बनाएं। 1 चम्मच चूर्ण को 1 गिलास दूध में मिलाकर सुबह-शाम लें।

डायरिया की समस्या

सामान्य और खूनी दस्त की समस्या दूर करने के लिए छुईमुई की पत्तियों का अर्क पिएं। इसके अलावा आप छुईमुई की जड़ का 3 ग्राम चूर्ण दही के साथ खाएं। इससे भी आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

अस्थमा में आराम

इसके पौधे के अर्क नियमित लेने से अस्थमा में फायदा होता है लेकिन आयुर्वेदिक एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें।

पीलिया से राहत

छुईमुई की पत्तियों का जूस नियमित पीने से पीलिया की समस्या दूर हो जाएगी। कम से कम 15 दिन तक रोज इसका जूस जरूर पीएं।

ब्लड प्रेशर कंट्रोल

छुईमुई की पत्तियों का रस पीने से ना सिर्फ ब्लड प्रेशर कंट्रोल होता है बल्कि इससे कोलेस्ट्राल लेवल भी नहीं बढ़ता। इससे दिल की बीमारियों का खतरा कम होता है।

खून की कमी करे पूरी

इसमें भरपूर आयरन व जिंक होता है, जिससे शरीर में हीमोग्लोबिन बढ़ता है और खून की कमी नहीं होती। साथ ही इससे शारीरिक कमजोरी भी दूर होती है।

बालों की ग्रोथ बढ़ाए

स्कैल्प पर इसकी पत्तियों का अर्क लगाएं और खुच देर के लिए छोड़ दें। फिर माइल्ड शैंपू से धो लें। इसके अलावा आप इसकी पत्तियों को पानी में उबालकर बाल धोने के भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे बालों का टूटना-झड़ना बंद हो जाएगा।

ध्यान रखें कि छुईमुई जंगली और पहाड़ी जड़ी बूटी है इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार आयुर्वेदिक एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें।