राजधानी में टीकाकरण की रफ्तार हुई दोगुनी

दिल्ली : राजधानी में टीकाकरण की रफ्तार दोगुनी हो गई है। इसकी गति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले सात दिन से रोजाना 1.5 लाख से ज्यादा टीके लगाए जा रहे हैं। इस माह अभी तक 32 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई गई है। वहीं पिछले महीने यह  आंकड़ा 16 लाख था। विशेषज्ञों का कहना है इससे जल्द ही सभी लोगों को टीका लग सकेगा और अगली लहर के खतरे को कम किया जा सकेगा। 

दिल्ली में 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू हुआ था। अब तक एक करोड़ 31 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इनमें 94 लाख को पहली और 37 लाख को दूसरी डोज लग चुकी है। पिछले दस दिन में ही 11 लाख टीके लगाए गए हैं। वैक्सीन लेने वालों में सबसे अधिक संख्या युवाओं की है। 18 से 44 आयु वर्ग में 59 लाख लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। इनमें 49 लाख को पहली और 10 लाख को दूसरी खुराक लगी है। दिल्ली में युवाओं की आबादी 92 लाख है। इस हिसाब से देखें तो टीकाकरण के लिए पात्र युवा आबादी में से 54 फीसदी को पहली खुराक लग चुकी है। 

जीटीबी अस्पताल के डॉक्टर विनय कुमार का कहना है कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के खतरे को कम करने के लिए अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण होना जरूरी है। फिलहाल राजधानी में वैक्सीनेशन की रफ्तार काफी अच्छी है। अगर टीकाकरण इसी गति से चलता रहा, तो आने वाले एक से दो महीने में पूरी पात्र आबादी का वैक्सीनेशन हो जाएगा।  

राजधानी में अब तक 94 लाख लोगों को टीके की पहली खुराक लग चुकी है। जो वैक्सीनेशन की पात्र आबादी (डेढ़ करोड़) का 62 फीसदी है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस आंकड़े को 80 फीसदी तक पहुंचाने की जरूरत है। इससे अगली लहर का खतरा काफी हद तक कम हो जाएगा।