किसानों को परेशानी से बचाने को डीएम ने गौशाला भेजी गाय

चित्रकूट। भारतीय किसान यूनियन मीडिया प्रभारी देवेन्द्र सिंह ने पहाड़ी ब्लॉक के बछरन, अर्जुनपुर, गनींवा, चनहट रामनगर ब्लॉक मलवारा, खटवारा भनडेसर देवल चांदी आदि दर्जनों गांवों का दौरा कर किसानों से रूबरू हुए। किसानों ने बताया कि अन्ना प्रथा की समस्या सबसे बड़ी समस्या है। जुताई-बुवाई कर मेहनत से बीज बोने के बाद पूरी रात जागकर खेतों की रखवाली करते हैं, लेकिन पलक झपकते ही जानवर खेतों की फसलें चटकर जाते हैं।

मंगलवार को उन्होंने बताया कि किसानों की फसलें बर्बाद हो रही हैं। दूसरी और नीलगाय की भी समस्या तेजी से बढ़ रही हैं। भाकियू तहसील अध्यक्ष शैलेन्द्र सिंह ने बताया कि कर्वी ब्लॉक के परसौंजा, कुचारम आदि गांवों में गौशाला नहीं चल रही है। अन्ना जानवर, नीलगायें किसानों की फसलों को नष्ट कर रही हैं। जिलाधिकारी के आदेश के बाद भी अन्ना जानवर खुले घूम रहे हैं। दिन-रात खुली सड़कों में घूमकर दुर्घटनाओं को भी अंजाम दे रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन ने मांग उठाई कि अविलम्ब गौशालाएं संचालित करते हुए जिले को अन्ना जानवरों से मुक्त कराते हुए किसानों की फसलों को बचायें।

इसी क्रम में आज जिलाधिकारी शुभ्रांत कुमार शुक्ल ने किसानों की फसलें बचाने को सड़कों पर टहल रहे अन्ना जानवरों को बेडीपुलिया से रानीपुर भट्ट, सीतापुर ग्रामीण, चितरागोकुलपुर पर लगभग 95 गौवंश खोही गौशाला व नगर पालिका की गौशाला में संरक्षित कराया।