होंगे कामयाब

हम होंगे कामयाब,

रखो स्वयं पर विश्वास,

माना वक्त है सख्त,

पर फिर पलटेगा तख्त,

नहीं खोना है आत्मविश्वास,

है जब अपनों का साथ,

हंसते गाते समय कट जाएगा,

खुली हवा में फिर मनुष्य सांस ले पाएगा,

स्थिर तो कुछ नहीं इस दुनिया में,

वक्त का पहिया चलता जाएगा,

 है जो अवसाद का वातावरण,

प्रोत्साहन में बदल जाएगा,

आत्मिक शक्ति से,

डर का अंत हो जाएगा,

मन में रखो विश्वास,

हम होंगे कामयाब।


नाम : निशांत सक्सेना

स्थान : गाजियाबाद