क्या सच है

देखो -देखो सरकारों का झूठा खेल।

जनता रही मंहगाई की मार झेल।

कोरोना की तीसरी लहर -हे राम

अनिल त्रिपाठी