कोरोना पर पीएम मोदी ने छह राज्यों के सीएम के साथ की बैठक, कहा- 'जहां ज्यादा केस, वहां उतना ज्यादा फोकस'

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी को लेकर छह राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ शुक्रवार को बैठक की. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने आपसी सहयोग और एकजुट प्रयास से कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ी. पीएम ने केरल और महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बढ़ने पर चिंता जताई है. उन्होंने मुख्यमंत्रियों से कहा कि तीसरी लहर को रोकने के लिए कोरोना के खिलाफ प्रभावी कदम उठाया जाना आवश्यक है. कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद शुरू किया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि बहुत जरूरी है कि जिन राज्यों में केसेस बढ़ रहे हैं, उन्हें सक्रिय उपाय करते हुए तीसरी लहर की किसी भी आशंका को रोकना होगा. उन्होंने 4-T नीति पर जोर देते हुए कहा कि हमें टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट और टीका की हमारी रणनीति फोकस करते हुए ही आगे बढ़ना है. माइक्रो-कंटेन्मेंट जोन पर हमें विशेष ध्यान देना होगा. जिन जिलों में पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है, जहां से अधिक मामले आ रहे हैं, वहां उतना ही ज्यादा फोकस भी होना चाहिए. 

उन्होंने कहा कि शुरुआत में विशेषज्ञ ये मान रहे थे कि जहां से सेकंड वेव की शुरुआत हुई थी, वहां स्थिति पहले नियंत्रण में होगी लेकिन, महाराष्ट्र और केरल में मामलों में इजाफा देखने को मिल रहा है. ये वाकई हम सबके लिए, देश के लिए एक गंभीर चिंता का विषय है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि लंबे समय तक लगातार केसेस बढ़ने से कोरोना के वायरस में म्यूटेशन की आशंका बढ़ जाती है, नए नए वैरिएंट्स का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए, तीसरी लहर को रोकने के लिए कोरोना के खिलाफ प्रभावी कदम उठाया जाना आवश्यक है. 

पीएम मोदी ने कहा कि देश के सभी राज्यों को नए आईसीयू बेड्स बनाने, टेस्टिंग क्षमता बढ़ाने और दूसरी सभी जरूरतों के लिए फंड उपलब्ध करवाया जा रहा है. केंद्र सरकार ने हाल ही में, 23 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का इमरजेंसी कोविड रेस्पोंस पैकेज भी जारी किया है. 

इस बैठक में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येद्दियुरप्पा, ओड़िशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से शामिल हुए. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख भाई मांडविया भी इस बैठक में उपस्थित थे.