भोपाल की बीजेपी सांसद ने घर पर लगवाई वैक्‍सीन, कांग्रेस ने किया सवाल..

भोपाल :मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर हमेशा सुर्खियों में रहती हैं. अपने विवादित बयानों को लेकर वे कई बार, बीजेपी के लिए परेशानी का सबब बन चुकी हैं. मेडिकल टीम को घर पर बुलाकर कोरोना वैक्‍सीन लगवाने के मामले में प्रज्ञा फिर चर्चाओं में हैं. ऐसे समय जब पीएम मोदी सहित तमाम बड़े नेताओं ने अस्‍पताल में जाकर वैक्‍सीन लगाया है, प्रज्ञा के इस कदम ने विपक्षी कांग्रेस पार्टी को मुद्दा दे दिया है. MP कांग्रेस के प्रवक्‍ता नरेंद्र सलूजा ने इस मुद्दे पर ट्वीट करके चुटकी ली है. सलूजा ने अपने ट्वीट में लिखा 'अभी कुछ दिन पूर्व ही बास्केटबॉल खेल रही व ढोल की थाप पर नृत्य कर रहीं हमारी भोपाल की सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने आज घर टीम बुलाकर वैक्सीन का डोज़ लगवाया ? मोदीजी से लेकर शिवराजजी व तमाम भाजपा नेता अस्पताल में जाकर वैक्सीन लगवा कर आए लेकिन हमारी सांसदजी को यह छूट क्यों व किस आधार पर?'

इससे पहले, भी प्रज्ञा ठाकुर बीजेपी के लिए भी असहज स्थिति उत्‍पन्‍न कर चुकी हैं. कुछ समय पहले ही उन्‍होंने मुंबई आतंकी हमले में 'शहीद' पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान दिया था. प्रज्ञा ने कुछ साल पहले कहा था कि उनके श्राप के कारण ही महाराष्‍ट्र कैडर के आईपीएस अफसर करकरे की मौत हुई. इस बयान के कारण उन्‍हें और उनकी पार्टी को तीखी आलोचना का शिकार होना पड़ा था. बहरहाल, प्रज्ञा के रुख में अभी भी कोई बदलाव नहीं आया है. उन्‍होंने फिर कहा कि वे हेमंत करकरे को देशभक्‍त नहीं मानतीं. मालेगांव विस्‍फोट मामले की आरोपी प्रज्ञा ने कहा, 'हेमंत करकरे कुछ लोगों के लिए देशभक्‍त हो सकते हैं लेकिन असली देशभक्‍त अलग सोचते हैं. उसने (करकरे) मेरे बारे में जानकारी हासिल करने के लिए मेरे आचार्य-शिक्षक (स्‍कूल टीचर) की अंगुलियों और पसलियों को तोड़ा. मुझे झूठे केस में फंसाया गया.'

मालेगांव मामले में स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से अदालत में नियमित रूप से पेश होने से छूट पाने वाली प्रज्ञा कई बार व्‍हील चेयर पर भी नजर आ चुकी हैं लेकिन इसी माह की शुरुआत में भोपाल में एक कार्यक्रम के दौरान वे बॉस्केटबॉल कोर्ट पर ड्रिबलिंग करती नजर आई थी. कांग्रेस प्रवक्‍ता नरेंद्र सलूजा ने उस समय ट्वीट करते हुए लिखा था- अभी तक व्हीलचेयर पर ही देखा था, लेकिन आज उन्हें स्टेडियम में बास्केटबॉल पर हाथ आजमाते देखा तो खुशी हुई.

प्रज्ञा को एक शादी में डांस करते हुए भी देखा गया था जिसका आयोजन उनके द्वारा ही किया गया था. इस वीडियो पर भी कांग्रेस की ओर से प्रज्ञा को लेकर टिप्पणी की गई थी, जिन्होंने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए मालेगांव विस्फोट मामले में कोर्ट में पेश होने से छूट मांगी थी. यह वीडियो एक शादी का था,जो सांसद के भोपाल स्थित आवास पर आयोजित हुई थी. प्रज्ञा ने दो गरीब लड़कियों की शादी करवाकर उन्हें विदा किया. इस कार्यक्रम में 51 साल की प्रज्ञा थिरकती नजर आ रही हैं और अन्यों से भी ढोल पर हो रहे इस डांस में शामिल होने को कह रही हैं.