पिछले सत्र में हुई घटना को लेकर तेजस्‍वी यादव ने बिहार विधानसभा स्‍पीकर को लिखा खत, आगामी सत्र में आने से डर रहे विधायक

पटना : बिहार विधानसभा के पिछले सत्र में विधायकों के साथ हुई कथित मारपीट और दुर्व्‍यवहार के दोषी अधिकारियों पर अभी तक कार्रवाई नहीं होने को लेकर राष्‍ट्रीय जनता दल नेता तेजस्‍वी यादव ने नाराजगी जताई है. Bihar विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी ने कार्रवाई नहीं करने के संबंध में विधानसभा अध्यक्ष को दोबारा पत्र लिखा है. गौरतलब है कि बिहार विधानसभा में मार्च माह में विपक्षी विधायकों ने हंगामा किया था, बाद में सदन के अंदर पहली बार, पुलिस ने घुसकर विधायकों को घसीटते हुए विधानसभा से बाहर निकाला था.

तेजस्‍वी ने विधानसभा अध्‍यक्ष को संबोधित इस लेटर में लिखा है-बिहार विधानसभा परिसर में 23 मार्च 2021 को हुई शर्मनाक, अलोकतांत्रिक और दुर्भाग्‍यपूर्ण घटना के संबंध में तीन अप्रैल को आपको पत्र लिखा था, इसमें घटना में संलिप्‍त पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई के संबंध में आग्रह किया था. पत्र में निम्‍न बिंदुओं पर जांच का आदेश देने का आग्रह किया गया था.

1. विधानसभा परिसर में भारी संख्‍या में पुलिस बल किसके आदेश पर पहुंचा?

2. अवैध तरीके से आए पुलिसकर्मियों को विधायकों पर अत्‍यधिक बल प्रयोग करते हुए पक्‍के सतह पर पटकने सहित जानलेवा हमला करने का आदेश किसने दिया था?

3. महिला विधायकों के साथ हुई दुर्व्‍यवहार, बाल खींचकर मारने, घसीटने जैसे अन्‍य अवर्णनीय अपराध करने का आदेश किसने दिया था.   

पत्र में तेजस्वी ने लिखा है कि 23 मार्च 2021 की इस घटना से विधायकगण इतने भयभीत हैं कि आगामी सत्र में आने से भी डर रहे हैं. सभी विपक्षी दलों के नेताओं ने मुझसे कहा है क आप, विधानसभा अध्‍यक्ष से उक्‍त घटना में संलिप्‍त पदाधिकारियों/कर्मियों पर समुचित कार्रवाई करते हुए हम लोगों को सुरक्षा की गारंटी दिलाई जाए ताकि सभी विपक्षी सदस्‍य बिना भय के जनता के सवालों को सदन में रख सकें. लोकतंत्र के मंदिर में हुई इस घटना पर कार्रवाई करना अत्‍यंत आवश्‍यक है वरना इतिहास हमें कभी माफ नहीं करेगा. यह लोकतंत्र की मर्यादा, संसदीय प्रणाली बचाने के साथ साथ माननीय सदस्‍यों का मनोबल बचाए रखने केलिए भी आवश्‍यक है.