मुंबई में रातभर से हो रही तेज बारिश, निचले इलाकों में पानी भरा

मुंबई : मुंबई समेत आसपास के इलाके में बीती रात से ही लगातार बारिश हो रही है, जिससे कुर्ला, चेंबूर, सायन, किंग सर्कल, दादर, हिंदमाता, अंधेरी सबवे, वडाला, चूना भट्टी समेत कई निचले इलाकों में पानी भर गया है. पानी निकालने में बीएमसी के कर्मचारी जुटे हैं. लगातार हो रही बारिश की वजह से मुंबई के कई इलाकों में ट्रैफ़िक बुरी तरह से बाधित हुआ है.समंदर में आज शाम 4 बजकर 26 मिनट पर 4.08 मीटर की हाईटाइड का अनुमान है.

वहीं उत्तर और पूर्वी भारत की बात करें तो यूपी और राजस्थान को छोड़कर गुरुवार को मौसम शुष्क बना रहा. यूपी और राजस्थान में हल्की बारिश हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक- तेलंगाना में कुछ स्थानों पर बहुत भारी से अत्यधिक भारी वर्षा हुई जबकि असम और मेघालय, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्य प्रदेश, कोंकण और गोवा के अलावा तटीय कर्नाटक में भी भारी बारिश हुई.

दिल्ली में बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान 36.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग ने राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार को आसमान में बादल छाए रहने और हल्की बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है.  राष्ट्रीय राजधानी में सुबह का न्यूनतम तापमान 23.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जोकि सामान्य से चार डिग्री कम है. शाम साढ़े पांच बजे सापेक्षिक आर्द्रता 61 फीसदी दर्ज की गई। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक संतोषजनक की श्रेणी में रहा.

तेलंगाना में भारी बारिश के कारण राजधानी हैदराबाद समेत कुछ अन्य जिलों में कई स्थानों पर सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. तेलंगाना के हैदराबाद में कई आवासीय कॉलोनियों में पानी भर गया और लोगों को अपने घरों से पानी निकालने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) की आपदा प्रतिक्रिया बल (डीआरएफ) की टीमें बारिश के कारण होने वाली समस्याओं के समाधान के लिए मौके पर जुटी रहीं. राज्य के जगतियाल, निर्मल और अन्य जिलों में भी भारी बारिश हुई है, कुछ स्थानों पर नाले और अन्य जलस्रोत उफान पर हैं. मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों में राजन्ना सिरसिला, करीमनगर, सिद्दीपेट और अन्य जिलों में छिटपुट स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना जताई है.

पिछले 24 घंटों में उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई, जिसमें जनसठ (मुजफ्फरनगर) में 13 सेंटीमीटर, मेरठ में 10 सेंटीमीटर, कंठ (मुरादाबाद) में नौ सेंटीमीटर और बागपत में सात सेंटीमीटर बारिश हुई. मौसम विभाग ने 16 जुलाई को राज्य के अलग-अलग स्थानों पर बारिश या गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना जताई है.

मौसम विभाग के मुताबिक- राजस्थान में कई जगहों पर हल्की से भारी बारिश भी दर्ज की गई. राजस्थान के पूर्वी इलाकों में अगले कुछ दिनों में बारिश होने की संभावना है. राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में बृहस्पतिवार सुबह से लेकर शाम तक 41 मिमी, सीकर में 21 मिमी और चुरू में 1.8 मिमी बारिश दर्ज की गई. मौसम विभाग के प्रवक्ता के अनुसार बृहस्पतिवार शाम तक 24 घंटे की अवधि में अलवर के मंडावर और भरतपुर के बयाना में 11-11 सेंटीमीटर बारिश हुई. इस दौरान पाली में अधिकतम तापमान 43.8 डिग्री सेल्सियस, बाड़मेर-सवाईमाधोपुर में 41.1-41.1 डिग्री सेल्सियस, बीकानेर में 40.9 डिग्री सेल्सियस और धौलपुर में 40.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

अन्य उत्तरी राज्यों पंजाब और हरियाणा में अधिकांश स्थानों पर तापमान सामान्य सीमा से नीचे रहा. पिछले दो दिनों में बारिश होने के बाद, हरियाणा के करनाल को छोड़कर, जहां दिन के दौरान भारी बारिश (49) मिमी हुई, दोनों राज्यों के अधिकांश हिस्सों में मुख्य रूप से शुष्क मौसम बना रहा.उत्तर भारत के अन्य राज्यों में पंजाब और हरियाणा के अधिकांश स्थानों पर तापमान सामान्य सीमा से नीचे रहा. पिछले दो दिनों में बारिश होने के बाद दोनों राज्यों के अधिकांश हिस्सों में प्रमुख रूप से मौसम शुष्क बना रहा. हरियाणा के करनाल में भारी बारिश हुई। पंजाब के अमृतसर में अधिकतम तापमान 35.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि लुधियाना में अधिकतम 33.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

इस बीच, मौसम विभाग ने हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश की ताजा चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग ने 16 और 17 जुलाई को मैदानी, निचली पहाड़ियों और मध्य पहाड़ियों में भारी बारिश, गरज चमक के साथ वर्षा होने की येलो चेतावनी जारी की है. वहीं 18 और 19 जुलाई को मैदानी, निचली पहाड़ियों और मध्य पहाड़ियों में बहुत भारी बारिश, गरज और बिजली गिरने की आरेंज चेतावनी जारी की है. हिमाचल प्रदेश के कई हिस्सों में बृहस्पतिवार को हल्की से मध्यम बारिश हुई, कांगड़ा जिले के मालन में 54 मिमी बारिश हुई, इसके बाद कांगड़ा जिले के ही बैजनाथ में 32.5 मिमी बारिश हुई. अधिकारियों ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में हाल ही में हुई बारिश के कारण भूस्खलन और अचानक आई बाढ़ से मरने वालों की संख्या 13 हो गई है. आईएमडी ने तटीय कर्नाटक में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने जबकि उत्तराखंड, बिहार, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, असम और मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, गुजरात तथा रायलसीमा में कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान जताया है.