ICC का फैसला, सुपर सिक्स फॉर्मेट के आधार पर होगा वर्ल्ड कप

क्रिकेट वर्ल्ड कप को लेकर एक बार फिर से बड़ा बदलाव होने वाला है। यह बदलाव अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) की तरफ से किया जाएगा। जानकारी के अनुसार एक बार फिर से इस टूर्नामेंट में 14 टीमें हिस्सा लेंगी और राउंड रॉबिन की जगह सुपर सिक्स फॉर्मेट के आधार पर वर्ल्ड कप खेला जाएगा। आईसीसी यह फॉर्मेट 2027 वर्ल्ड कप में लागू करेगी।

इंग्लैंड वर्ल्ड कप को 10 टीमों तक ही सीमित रखने के पक्ष में नहीं

बता दें साल 2003 वर्ल्ड कप में सुपर सिक्स फॉर्मेट का इस्तेमाल किया गया था। वहीं, साल 2019 वर्ल्ड कप में आईसीसी ने राउंड रॉबिन फॉर्मेट को अपनाया जिसमें 10 टीमों ने हिस्सा लिया और एक टीम ने 9 मैच खेले। एक रिपोर्ट की मानें तो आईसीसी की बैठक में साल 2015, 2019 और 2003 सुपर सिक्स मॉडल पर चर्चा की गई। इस बैठक में ये बात सामने आई कि 10 टीम के मॉडल से सबसे ज्यादा फायदा मिला जबकि 2015 के मॉडल से सबसे कम फायदा हुआ। वहीं सुपर सिक्स मॉडल दोनों के बीच में रहा। रिपोर्ट में कहा गया है कि इंग्लैंड वर्ल्ड कप को 10 टीमों तक ही सीमित रखने के पक्ष में नहीं था।

सुपर सिक्स मॉडल को समझें

सुपर सिक्स मॉडल में 14 टीमें दो ग्रुप में बांटी जाती हैं। दोनों ग्रुप में एक टीम 6-6 मैच खेलती है। दोनों पूल की टॉप 3 टीमें सुपरसिक्स राउंड में पहुंचती हैं, जो टीमें पहले राउंड में ज्यादा मैच जीतती हैं उन्हें सुपर सिक्स राउंड में फायदा होता है क्योंकि ज्यादा मैच जीतने की वजह से उनके अंक अगले राउंड में भी गिने जाते हैं। सुपर सिक्स स्टेज में एक टीम अन्य पांच टीमों से भिड़ती हैं और उसके बाद अंकों के आधार पर टॉप 4 टीमें सेमीफाइनल में जगह बनाती हैं। सुपर सिक्स फॉर्मेट में वर्ल्ड कप में कुल 54 मैच होंगे जबकि 2019 में 48 मैचों का ही आयोजन हुआ था। 

2003 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम फाइनल तक पहुंची थी

मालूम हो कि वर्ष 2003 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का शानदार प्रदर्शन रहा था। टीम इंडिया फाइनल तक पहुंची थी। लीग स्टेज और सुपर सिक्स में शानदार प्रदर्शन के बाद टीम इंडिया ने सेमीफाइनल में केन्या को हराया था। हालांकि, खिताबी मुकाबले में उसे ऑस्ट्रेलियाई टीम से हार का सामना करना पड़ा था।