मीनाक्षी शेषाद्रि का नहीं रहा कभी कोई अफेयर, बोलीं- लोग बोलने लगे बर्फ जैसी ठंडी

बॉलिवुड में एक समय पर मीनाक्षी शेषाद्रि को सबसे टैलेंटेड ऐक्ट्रेसेस में से एक माना जाता था। कई सफल फिल्में करने के बाद मीनाक्षी ने फिल्म इंडस्ट्री को उस समय अलविदा कहा था जब वह अपने करियर के पीक पर थीं। मीनाक्षी ने साल 1995 में शादी की और फिर हमेशा के लिए यूएस में बस गईं। अब मीनाक्षी एक बार फिर बॉलिवुड में वापसी करना चाहती हैं। हमारे सहयोगी से हुई एक्सक्लूसिव बातचीत में मीनाक्षी ने अपने करियर, बॉलिवुड में काम करने के एक्सपीरियंस और अपनी लाइफ के बारे में खुलकर बात की। फिल्मों में एक बार फिर वापसी के बारे में मीनाक्षी ने कहा कि अब उनके दोनों बच्चे बड़े हो गए हैं और इसलिए वह चाहती हैं कि एक बार फिर ऐक्टिंग में वापस आएं। उन्होंने कहा, श्साल 1995 में शादी करने के बाद मैं अमेरिका के डलास में बस गई। अब मैं अपने दोनों बच्चों के साथ रहती हूं। मेरी बेटी नौकरी करती है और मेरा बेटा कॉलेज जाने वाला है। मेरे पास अब कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं है इसलिए अब मैं एक बार फिर फिल्मों लौटना चाहती हूं। मीनाक्षी ने साल 1983 में मनोज कुमार की फिल्म पेंटर बाबू से डेब्यू किया था। कम ही लोगों को पता है कि मीनाक्षी का असली नाम शशिकला है और अपने नाम बदलने की दिलचस्प कहानी भी बताई। उन्होंने कहा, मेरी मां ने मेरा नाम शशिकला रखा था मगर मेरे दादा मेरा नाम मीनाक्षी रखना चाहते थे। जब मैं मनोज कुमार जी से मिली तो उन्होंने कहा कि मेरा नाम शशिकला ठीक नहीं हैं क्योंकि पहले से इसी नाम की ऐक्ट्रेस बॉलिवुड में काम कर रही हैं। जब मैंने ऑप्शन के तौर पर उन्हें मीनाक्षी नाम बताया तो उन्हें यह नाम पसंद आया और वह तुरंत तैयार हो गए। एक समय ऐसा था जबकि मीनाक्षी शेषाद्रि को लोग बर्फ जैसी ठंडी बोलने लगे थे। इस बारे में भी मीनाक्षी ने एक दिलचस्प किस्सा सुनाया। उन्होंने कहा, जब हम ऊटी में हीरो की शूटिंग कर रहे थे तो मुझे एक गाने में झरने के नीचे बैठना था। मुझे उस दिन बुखार आ रहा था और मैंने सुभाष घई से कहा कि वह इस सीन को 2 दिन बाद फिल्माएं मगर तब तक फिल्म के प्रमोशन के लिए प्रेस के लोग वहां आ चुके थे। मैं उस समय ओढ़ कर अपनी मां की गोद में बैठी थी। मैंने किसी से बात नहीं की तो मेरा नाम बर्फ जैसी ठंडी बोलने लगे। बाद में मुझे यह नाम इसलिए भी दिया गया क्योंकि न तो मेरा कोई अफेयर था और न ही कोई बॉयफ्रेंड। मीनाक्षी शेषाद्रि ने अपने करियर में हीरो, घायल, घातक, दामिनी, शहंशाह, मेरी जंग, स्वाति, डकैत, गंगा जमुना सरस्वती, नाचे नागिन गली गली, घर हो तो ऐसा, क्षत्रिय जैसी बड़ी और सुपरहिट फिल्मों में काम किया है। मीनाक्षी आखिरी बार साल 1996 में रिलीज हुई फिल्म स्वामी विवेकानंद में एक छोटे से किरदार में नजर आई थीं। अब फैन्स को एक बार फिर पर्दे पर अपनी फेवरिट दामिनी को देखने का इंतजार रहेगा।