हरियाणा के खनन माफिया यमुना की कोख कर रहे छलनी

सहारनपुर। सरकारी नियमावली के उलट कार्य को अंजाम देकर खनन माफियाओं ने चिलकाना क्षेत्र में सोंधेबांस समेत कुछ अन्य घाटों पर अंधेरगर्दी मचा रखी है । माफिया जेसीबी मशीनों से यमुना की कोख को छलनी कर पर्यावरण को खतरा पहुंचा रहे हैं । बड़े पैमाने पर रेत , बजरी , पत्थर और कोरसेंट का खनन व परिवहन यूपी के स्थान पर बिना पेपर के हरियाणा राज्य में पहुंचाया जा रहा है । इसकी शिकायत जिलाधिकारीसेलेकरखान अधिकारी तक पहुंची हुई है । पुलिस है कि इसे दूसरे विभाग का कार्य मानकर हाथ पर हाथ धरे बैठी है । अवैध खनन को लेकर कभी बदनाम बेहट और मिर्जापुर का स्थान चिलकाना और सरसावा ने लिया है वर्तमान में बड़े पैमाने पर अवैध खनन व् परिवहन किया जाता है बीते दिनों इसका खुलासा भी हो चुका है खनन माफिया यहाँ पर यमुना की कोख छलनी कर रहे हैं सोंधेबांस और आल्ह्नपुर में खेतसे रेत हटाने के लिए परमिशन हुआ है 

सोंधेबांस में गरीब किसान राजेन्द्र कुमार को 220 रुपए घनमीटर पर 3.486 हैक्टेयर जमीन से 69700 घनमीटर रेत व बोल्डर 2 मीटर की गहराई में 30 जून 2021 तक निकालने की अनुमति दी गई है । गरीब किसान ने 1.53 करोड़ रुपए नकद जमाकर अनुमति लिया है । सूत्रों की माने तो सोंधेबांस से हरियाणा राज्य की सीमा बहुत नजदीक है । यहां से सारे माल बिना पेपर के ही हरियाणा राज्य में पहुंचाया जा रहा है । चूंकि वैध प्रपत्र पर माल हरियाणा जा नहीं सकता है इस लिए वहां से सौ ट्रक यदि हरियाणा भेजा गया तो वैध प्रपत्र मात्र 25 ट्रक का यू.पी. के क्रशर के नाम का बनाया जा रहा।इस खेल में खनन माफिया और क्रशर स्वामी दोनों को फायदा है खनन माफिया निर्धारित मात्रा से काफी खुदाई कर रहा है तो क्रेशर स्वामी का स्टॉक बढ़ रहा है इस मामले में जिलाधिकारी आशीष कुमार से बात की गयी तो उन्होंने बताया कि ऐसी शिकायतें मिल रही है पर सही लोकेशन की तलाश है यह शिकायत सही सबिईत हुयी तो खेत स्वामी के साथ ही खनन माफिया और क्रेशर स्वामी के खिलाफ कार्यवाही होगी उन्होंने बताया कि उनके सिस्टम में हरियाणा माल भेजने के लिए अभी तक पेपर जनरेट नहीं हो रहा है ।

वहीँ थाना चिलकाना के सौंधेबाँस में कृषि पट्टे की आड़ में अन्य गांव का एक पूर्व प्रधान खनन माफियाओं के साथ मिलीभगत कर यूपी से हरियाणा में अवैध खनन और उसका अवैध परिवहन का कारोबार कर रहा है।ये खनन माफिया पिछले काफी लम्बे समय से अवैध खनन के इस काले कारोबार में लिप्त है और हरियाणा के खनन माफियाओं के साथ मिलकर वहाँ भी खनन का काम कर रहा है।सूत्रों से जानकारी मिली है कि ये खनन माफिया आलहन पुर और सौंधेबांस के खनन पट्टों से यूपी के भगवती स्टोन क्रेशर के नाम पर रवन्ने काटकर हरियाणा के यमुना स्टोन क्रेशर सहित हरियाणा के अन्य स्टोन क्रेशरों को सप्लाई करता है इतना ही नही बताया तो यह भी जा रहा है कि इस खनन माफिया की भगवती स्टोन क्रेशर और यमुना स्टोन क्रेशर में पार्टनरशिप भी है।हरियाणा के ही मंडौली गांव का रहने वाला कर्ण नाम का व्यक्ति इसका दाहिना हाथ है जो आरोपी खनन माफिया का हरियाणा के खनन कारोबार को संभालता है।इस माफिया के खिलाफ अवैध खनन को लेकर सहारनपुर में कई मुकदमे दर्ज है जिनमे से कई मामलों में तो इस पर सरकारी जुर्माना भी हो चुका है। इतना ही नहीं इस माफिया के खिलाफ तो एक बार सहारनपुर पुलिस ने गैंगेस्टर की भी तैयारी कर ली थी लेकिन अपने रसूख के चलते और पैसे के बल पर यह बच निकला।अगर भगवती क्रेशर के खनन पट्टों, स्टॉक और वहाँ लगे सीसीटीवी कैमरों की जाँच की जाए तो एक बहुत बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आएगा जिसमे करोड़ों के राजस्व की हानि सरकार को हो रही है।