भविष्य की नाहक चिन्ता

ज्यादातर पुरानी पीढ़ी का

है यह सोचना कि

थामा हुआ है उन्होंने आसमां,

नहीं रहेंगे कल को जो 

तो टूट कर  गिर जाएगा

अगली पीढ़ियों पर यह जहां,


लगे रहते हैं उम्र भर वो

अपना पेट काट काटकर

उनके लिए धन -सम्पत्ति 

करने जमा,

चाहे फिर वो बुढ़ापे में

सेवा-टहल करें ही न उनकी

और न बन पाएं हमनवां,


कर देना चाहते हैं वो लोग

अपनी कई पीढ़ियों तक के लिए

बैठ कर खाने का भंडार जमा,

बिना यह सोचे कि जाने कैसा

लिखा गया हो 

किस्मत में उनकी समां,


अपने बच्चों को अक्सर वो

डराते रहते हैं भविष्य का

भयानक सा चित्र दिखा,

अपने दम पर कर सकते हैं

उनके बच्चे कुछ सही

होता नहीं इसका उनको भरोसा,


सोचते नहीं इतना सा वो

कि सिर पर पड़ जाए जिसके 

जो बला,

उसे वो दे ही देता है अंजाम

थोड़ा बुरा या भला,


अपने बच्चों पर भरोसा 

करने के लिए उन्हें देखना चाहिए

दीवार पर अपने बुजुर्गों का चित्र टंगा,

जो उनके बारे में भी सोचते होंगे

यही कि उनके बच्चे उनकी तरह

नहीं चला पाएंगे यह दुनियादारी का कारवां।


                                      जितेन्द्र 'कबीर'