गांव में गंदगी का लगा अंबार सफाई कर्मी नदारद

-गांव का मुखिया मनचाही जगहों पर करवाता है काम

अमौली/फतेहपुर। चांदपुर थाना क्षेत्र के अमौली कस्बे में सफाई व्यवस्था देख कर हर कोई शर्मसार हो जाएगा जहां एक तरफ सरकार के द्वारा महामारी के इस दौर में स्वच्छता के लिए कई सारे मजबूत कदम उठाए जा रहे हैं। सफाई कर्मचारियों का कहना है की ग्राम प्रधान के अनुसार हमें सफाई करवानी पड़ती है क्योंकि पे-रोल में साइन करने में वह आनाकानी दिखाता है। तथा वह मनचाही लेवर लगाकर अपनी मनमानी करता है। वही अमौली कस्बे में पदाधिकारी और खुद सफाई कर्मी लापरवाही के द्वारा महामारी को बढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं इसी शिकायत को लेकर जब पत्रकारों की टीम अमौली कस्बे के वार्ड नंबर 9 व वार्ड 7 में पहुंची तो पड़ोस के ग्रामीणों के द्वारा शिकायतों का अंबार लग गया उन्होंने बताया कि पिछले 5 वर्षों में न तो एक भी सफाई कर्मी आया है और न ही वह किसी सफाई कर्मी को जानते हैं कस्बे के दर्जनों नागरिकों ने बताया कि गांव में नियुक्त सफाई कर्मचारी पिछले 5 वर्षों में एक भी बार साफ सफाई करने नहीं आया है जिससे गांव की नालियां दलदल में परिवर्तित हो चुकी हैद्यऔर सड़कों पर जलभराव की समस्या एक विकराल रूप धारण कर चुकी है जबकि अभी बरसात शुरू नहीं हुई है अगर ऐसा ही चलता रहा तो बरसात के दिनों में सड़कें तालाब से बदतर हो जाएंगी ग्रामीणों से बात करने पर बताया की इसकी कई बार शिकायत ग्राम प्रधान व ब्लॉक में की जा चुकी है ग्रामीणों ने कहा कि ऐसे लापरवाह कर्मचारी पर प्रशासन को तत्काल कार्यवाही करनी चाहिए  इस मामले में जब सफाई कर्मचारी विभाग के अध्यक्ष जय मोहन बाल्मीकि से वार्ता की गई जिसके फलस्वरूप अध्यक्ष ने सफाई कर्मी कर्मी को फटकार लगाने का आश्वासन दिया अगर गांव में इसी प्रकार की गंदगी फैली रही तो निश्चित रूप से गांव बीमारी से ग्रसित हो जाएगा जिससे कोई एक बड़ी घटना भी घट सकती है जिसका जिम्मेदार कौन होगा।