योग का कोई विकल्प नहीं

                 तन-मन को जो स्वस्थ कर,दे चोखे आयाम।

                   योग प्रबल इक शक्ति है,देती नव परिणाम ।।"

      सामान्य भाव में योग का अर्थ है जुड़ना। यानी दो तत्वों का मिलन योग कहलाता है। आत्मा का परमात्मा से जुड़ना यहां अभीष्ट है। योग की पूर्णता इसी में है कि जीव भाव में पड़ा मनुष्य परमात्मा से जुड़कर अपने निज आत्मस्वरूप में  स्थापित हो जाए।

        वर्तमान समय में अपनी व्यस्त जीवन शैली के कारण लोग संतोष पाने के लिए योग करते हैं। योग से न केवल व्यक्ति का तनाव दूर होता है बल्कि मन और मस्तिष्क को भी शांति मिलती है योग बहुत ही लाभकारी है। योग न केवल हमारे दिमाग, मस्‍तिष्‍क को ही ताकत पहुंचाता है बल्कि हमारी आत्‍मा को भी शुद्ध करता है। आज बहुत से लोग मोटापे से परेशान हैं, उनके लिए योग बहुत ही फायदेमंद है। योग के फायदे से आज सब ज्ञात है, जिस वजह से आज योग विदेशों में भी प्रसिद्ध है।

   हम यदि योग करते हैं,तो हम स्वस्थ व प्रसन्न रहते हैं,और हम तनाव से दूर हो जाते हैं।वैसे भी निरोगी काया दीर्घायु प्रदान करती है।व्यस्तता में भी हमें 

योग का महत्व व उपयोगिता तथाव्यवहार में अपनाना

योग का लक्ष्य स्वास्थ्य में सुधार से लेकर मोक्ष (आत्मा को परमेश्वर का अनुभव) प्राप्त करने तक है। जैन धर्म, अद्वैत वेदांत के मोनिस्ट संप्रदाय और शैव सम्रदाय के अन्तर में योग का लक्ष्य मोक्ष का रूप लेता है, जो सभी सांसारिक कष्ट एवं जन्म और मृत्यु के चक्र (संसार) से मुक्ति प्राप्त करना है, उस क्षण में परम ब्रह्मण के साथ समरूपता का एक एहसास है। महाभारत में, योग का लक्ष्य ब्रह्मा के दुनिया में प्रवेश के रूप में वर्णित किया गया है, ब्रह्म के रूप में, अथवा आत्मन को अनुभव करते हुए जो सभी वस्तुओं मे व्याप्त है।

     योग के बारे में यह कहते हैं कि यह सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम ही नहीं है, एक आध्यात्मिक तकनीक भी है। सर्वपल्ली राधाकृष्णन लिखते हैं कि समाधि में निम्नलिखित तत्व शामिल हैं: वितर्क, विचार, आनंद और अस्मिता।

      निश्चित रूप से योग जीवन को समग्रता देने वाली एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है,जिसका शारीरिक,मानसिक व व्यापक आध्यात्मिक महत्व  है।

   "योग सँवारे ज़िन्दगी,देता है आलोक।

    योग करे सुखकर जगत,करे दिव्य परलोक।।"


प्रो(डॉ)शरद नारायण खरे

 प्राचार्य

शासकीय जेएमसी महिला महाविद्यालय

मंडला(मप्र)-481661

 (मो.9425484382)