नशा मुक्त भारत के लिए आवाज बुलंद करो |

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2021 पूरी दुनियां  में हम सभी के द्वारा 31 मई को यानी की आज मनाया जायेगा। मेरे आत्मीय साथियों जिंदगी ईश्वर का दिया हुआ सबसे खूबसूरत तोहफा है,इस तोहफे को कुछ लोग तो बहुत संजो कर रखते हैं पर कुछ इस तोहफे को सिगरेट ,शराब, तंबाकू और गुटखे जैसी चीजों से बदनुमा और बदसूरत कर देते हैं,  जिंदगी के खूबसूरत पलों को कुछ लोग सिगरेट ,शराब, ड्र्ग्स और तंबाकू जैसी चीजों के नशे में डुबो कर बर्बाद कर देते हैं,  लेकिन हम देखते ही है की जिंदगी को बदसूरत बनाने वाली यह चीजें अक्सर जिंदगी ही खत्म कर देती हैं, तंबाकू भी एक ऐसा ही पदार्थ है जो विश्व में भर के लाखों लोगों की खूबसूरत जिंदगी को ना सिर्फ बदसूरत बना देता है बल्कि उसे पूरी तरह खत्म ही कर देता है,तंबाकू ना सिर्फ जिंदगी तबाह कर देता है बल्कि जिस अंदाज में यह जिंदगी को खत्म करता है वह बेहद दयनीय और दर्दनाक भी होता है ,मुंह और गले का कैंसर इसी तंबाकू की  देन होती है, कई लोग शौक से तो कई इसके नशे की वजह से इसका सेवन करते हैं लेकिन दोनों ही सूरतों में यह तंबाकू किसी भी कीमत पर खाने वाले से दोस्ती नहीं करता, बल्कि यह उन दोस्तों में से हैं जो आपका पैसा भी खाते हैं और वक्त आने पर आपकी पीठ पर छुरा भी घोंपते हैं,तो ऐसे दोस्तों से दोस्ती क्यों करे ?  चलिए आज ही  इस दुश्मन रूपी दोस्त को अपनी जिंदगी से निकाल फेंके, साथियों मैं खुद ही अपने स्कूल, कॉलेज समय से ही अपने मित्रों के टोली बनाकर , चौराहों और तंबाकू के दुकानों पर जा जाकर जागरूकता अभियान चलाया करते थे, जो की आज भी दिल्ली विश्वविद्यालय के या डॉक्टर मुखर्जी नगर के आस पड़ोस की दुकानों पर जाकर प्रतिदिन 10 से 15 मिनट समय देकर युवाओ को जागरुक करते रहे है ,इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण एक बेबिनार जागरूकता के  लिए रखा गया है,जिसमे हमे भी आमंत्रित किया गया है , ध्यातव्य हो की जागरूकता फैलाने के लिए ही प्रेरणा आइकॉन अवार्ड 2019 व कैमुर रत्न अवार्ड 2019 के साथ ही लेगेसी अवॉर्ड से भी अलंकृत मुझे किया गया है  , तो इस बार दोस्तो कोरोना महामारी के बीच बेरोजगारी संकट बढ़ जाने के लिए प्रस्तावित सीओटीपीए संशोधन ,कंज्यूमर ऑनलाइन फेडरेशन , पेशेंट सेफ्टी एंड एक्सेस इनिशिएटिव ऑफ इंडिया फाउंडेशन, द अवेयर कंज्यूमर और हेल्दी यू फाउंडेशन पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के सहयोग से विश्व तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर पश्चिमी देशों के गैर सरकारी संगठनों के प्रभाव में शिकार हो रहे उपभोक्ता और नकली और निम्न गुणवत्ता वाले तंबाकू उत्पादों का सेवन करने वाले उपभोक्ताओं की सुरक्षा पर विचार करने के लिए एक वेबीनार का आयोजन 11 बजे से  किया जा रहा है, इस वेबीनार में परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कोटपा कानून में प्रस्तावित संशोधनों और दूसरी लहर कोविड 19 महामारी के हमले से जूझ रहे खुदरा विक्रेताओं के उपभोक्ताओं और आजीविका पर इसके प्रभाव पर भी चर्चा होगी। जिसमे पर्व लोक सभा सांसद रामजीभाई खंडहेरिया , प्रफुल डी. सेठ जो की पर्व एफआईपी के अध्यक्ष ,डॉ. कल्पना खंडहेरिआ मैनेजिंग ट्रस्टी श्री बटुकभाई खंडहेरिया चेरिटेबल ट्रस्ट , प्रोफ़ेसर बेजोन मिश्र फाउंडर डॉयरेक्टर पैसीफ फाउंडर ट्रस्टी सीओएफ , शरद टंडन ( डॉयरेक्टर द टोबैको इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया , साथ ही अभय राज शर्मा जो की प्रहर का अध्यक्ष व डॉक्टर विक्रम चौरसिया जो की अपने स्कूल कॉलेज समय से ही अन्याय के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं, साथ ही तंबाकू मुक्त भारत के लिए लगातार आवाज उठा रहे हैं, इन सभी के साथ ही देश के अन्य विशिष्ट लोग भी इस वेबिनार में शामिल होंगे, डॉ. विक्रम चौरसिया का आप सभी से विनम्र निवेदन है कि आप अपने पूरे दिन के 24 घंटो में कम से कम 5 से 10 मिनट्स जरुर लोगों को जागरूक करने के लिए निकालिए, यह हम सभी का ही कही न कही दायित्व है कि अपने देश को नशा मुक्त बनाएं, इसके लिए हमे अपने युवाओं को प्रेरित करना होगा , हम सभी आज हर चौक चौराहे पर  देखते हैं की अक्सर कुछ  युवा वर्ग सिगरेट फूंकते हुए या अन्य नशा भी करते हुए मिल जाते है , इन्हें हमें प्रेरित करना होगा क्योंकि किसी भी राष्ट्र का युवा खत्म तो वह राष्ट्र भी खत्म, किसी भी राष्ट्र को संपूर्ण रुप से समृद्ध और विकसित बनाने के लिए युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, इसलिए आज मैं देश के हर वर्ग से विनम्र अनुरोध करता हूं कि आप आज से ही अपने  पूरे दिन में से कम से कम 5 से 10 मिनट निकालकर युवाओं को प्रेरित करें कि वह नशा से खुद को दूर करे , साथ ही भारत सरकार को भी जैसे मिजोरम में तंबाकू पूर्णतः  प्रतिबंध है या बिहार में भी कानूनी रूप से प्रतिबंध है, इसी तरह से भविष्य को बचाने के लिए पूरे देश में तंबाकू पर प्रतिबंध लगाने के लिए पहल करे ।


डॉ. विक्रम चौरसिया (क्रांतिकारी) चिंतक/आईएएस मेंटर/ दिल्ली विश्वविद्यालय 9069821319 लेखक सामाजिक आंदोलनों से जुड़े रहे है व वंचित तबकों के लिए आवाज उठाते रहे हैं।