भारतीय मुक्केबाजों की आस इटली पर टिकी, वीजा मिला तो असिसी ट्रेनिंग सेंटर में जाएंगे बॉक्सर

एशियाई चैंपियनशिप में भारतीय मुक्केबाजों को नजदीकी और विवादास्पद मुकाबलों में हराने वाले कजाखस्तान और उज्बेकिस्तान ने ओलंपिक से पहले अपने यहां भारतीय टीम के साथ तैयारियों से इंकार कर दिया है। अब भारतीय मुक्केबाजों की आस इटली पर टिकी है। वीजा मिला तो पुरुष और महिला मुक्केबाज इटली के असिसी ट्रेनिंग सेंटर रवाना होंगे। फिल्हाल पटियाला में अमित पंघाल, मनीष कौशिक, विकास कृष्ण, आशीष कुमार और सतीश कुमार को पुराने और अनुभवी धुरंधरों को तैयारियां कराने के लिए चुना गया है। 

अमित पंघाल की तैयारियों केलिए राष्ट्रमंडल खेलों के मेडलिस्ट मोहम्मद होसामुद्दीन,कविंदर बिष्ट (57) के अलावा युवा दीपक भूरिया को लगाया गया है। अमित के लिए उनके पुराने कोच अनिल धनकड़ साथ लगाए गए हैं। मनीष कौशिक को 63 किलो वर्ग में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य जीतने वाले दिग्गज शिवा थापा तैयारियां करेंगे। वहीं 69 किलो में एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता विकास कृष्ण ने पेशेवर मुक्केबाजी में कूद चुके  नीरज गोयत को तैयारियों के लिए मांगा है। नीरज को भी शिविर में शामिल कर लिया गया है। 75 किलो में आशीष को आकाश और प्लास 91 किलो में सतीश कुमार को हाल ही में एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाले संजीत और नरेंदर तैयारियां कराएंगे। इन सभी को इटली ले जाया जाएगा। इसी तरह महिला बॉक्सरों को भी स्पारिंग पार्टनर दिए गए हैं।

मुक्केबाज संघ ने पहले बॉक्सरों को उज्बेकिस्तान और कजाखस्तान में भेजने की योजना बनाई थी, लेकिन इन दोनों ही देशों ने यह कह दिया कि वे ओलंपिक से पहले किसी के साथ नहीं बल्कि अपने स्तर पर तैयारी करते हैं। पहले पांच जून को इटली रवानगी की योजना थी, लेकिन वीजा को लेकर अब तक औपचारिकताएं पूरी नहीं हो पाई हैं। अगर 13 जून तक वीजा मिल जाता है तो तीन सप्ताह के लिए पुरुष और महिला मुक्केबाज असिसी भेजे जाएंगे।