देश में धीरे-धीरे पांव पसार रहा कोरोना का डेल्टा प्लस वेरिएंट, मामले बढ़कर 51 हुए

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच वायरस के 'डेल्टा प्लस' वैरियंट के मामले आने से चिंताएं बढ़ गई हैं. सूत्रों के मुताबिक, देश में डेल्टा प्लस वैरियंट के मामलों की संख्या बढ़कर 51 हो गई है. उधर, देश में कई राज्यों ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं. इससे पहले, केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा था कि अब तक देश में जीनोम किये गये 45000 नमूनों में से कोविड के डेल्टा प्लस स्वरूप के 48 मामले सामने आये और उनमें से सबसे अधिक 20 मामले महाराष्ट्र से हैं. 

हालांकि, केंद्र ने इस बात पर जोर दिया है कि इस उत्परिवर्तन के अब भी "बहुत सीमित" मामले हैं और यह नहीं कहा जा सकता कि इसमें वृद्धि का रुझान दिख रहा है. 

महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वेरिंयट अपने पांव पसार रहा है. वहां इस संक्रमण से पहली मौत हुई है. इस वेरिएंट से रत्नागिरी में 80 साल के मरीज की मौत हुई है. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 21 मरीज थे, जिसमें 80 साल से एक बुजुर्ग की मौत के बाद अब संख्या 20 हो गई है.

राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) के निदेशक सुजीत सिंह ने कल स्वास्थ्य मंत्रालय की मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘‘इस उत्परिवर्तन (डेल्टा प्लस) के मामले बहुत सीमित हैं. भारत में, बहुत सीमित मामले हैं (डेल्टा प्लस के). करीब 50 मामले हैं जो 12 जिलों में सामने आए हैं और यह पिछले तीन महीनों में हुआ है. यह नहीं कहा जा सकता कि किसी भी जिले या राज्य में इसकी वृद्धि की प्रवृत्ति है."