राहुल गांधी : जनता के प्राण जाएं पर PM की टैक्स वसूली ना जाए

नई दिल्ली: राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर ट्वीट कर हमला बोला है. उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए अपने ट्विटर हैंडल से #GST के साथ ''जनता के प्राण जाएं पर PM की टैक्स वसूली ना जाए!'' ट्वीट किया है. राहुल से पहले कांग्रेस शासन वाली कई सरकारों ने भी कोरोना वैक्सीन पर जीएसटी वसूलने का विरोध किया था. केंद्र सरकार कोरोना के टीकों पर राज्यों से पांच फीसदी जीएसटी वसूल रही है. बीते दिनों राजस्थान और छत्तीसगढ़ सरकार ने केंद्र द्वारा कोरोना के टीकों पर जीएसटी लगाए जाने का विरोध किया था. पांच फीसदी जीएसटी के साथ राज्यों को वैक्सीन की एक डोज के ऊपर 15 से 20 रुपए अतिरिक्त चुकाने पड़ रहे हैं.

केंद्र सरकार ने विदेश से आने वाली कोरोना वैक्सीन को जीएसटी के दायरे में नहीं रखा है. सरकार देश में बनने वाली वैक्सीन कोवैक्सीन और कोविशील्ड पर राज्य सरकारों से पांच फीसदी जीएसटी वसूल रही है. कई राज्य सरकारों ने केंद्र को चिट्ठी लिख कर कोरोना वैक्सीन को टैक्स मुक्त करने की मांग की है. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक भी केंद्र सरकार से वैक्सीन पर जीएसटी लेने की मांग कर चुके हैं. पटनायक ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को एक खत लिखा है, जिसमें उन्होंने 18 से 44 साल के उम्र के लोगों को दी जाने वाली वैक्सीन पर जीएसटी छूट की मांग की है. आपको बता दें कि ओडिशा में इस श्रेणी के लोगों को फ्री में वैक्सीन लग रही है, लेकिन राज्य सरकारों को वैक्सीन खरीदनी पड़ रही है.

एक दिन पहले राहुल गांधी ने पेट्रोल डीजल की कीमतों में फिर हो रही बढ़ोतरी पर सवाल उठाए थे. राहुल गांधी ने कीमतों को विधानसभा चुनाव से जोड़ते हुए निशाना साधा था कि चुनाव खत्म, लूट फिर शुरू. दूसरी ओर राहुल ने लॉकडाउन को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल उठाए थे. उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि पिछले साल का अनियोजित लॉकडाउन जनता पर घातक वार था इसलिए मैं सम्पूर्ण लॉकडाउन के खिलाफ हूं. लेकिन प्रधानमंत्री की नाकामी व केंद्र सरकार की जीरो रणनीति देश को पूर्ण लॉकडाउन की ओर धकेल रही है. ऐसे में गरीब जनता को आर्थिक पैकेज और तुरंत हर तरह की सहायता देना जरूरी है.