कोरोना काल में IPL कराने को लेकर बीसीसीआई पर भड़के नासिर हुसैन

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन कोरोना काल में आईपीएल कराने पर बीसीसीआई पर जमकर भड़के। उन्होंने आईपीएल 2021 को स्थगित करने के फैसले पर कहा कि इसे तो बंद होना ही था। एक तरफ लोग सड़क पर मर रहे हैं और टूर्नामेंट चल रहा था। मंगलवार को बायो बबल के बावजूद आईपीएल खेल रही टीमों के खिलाड़ियों और स्टॉफ के कुछ लोगों के कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद बीसीसीआई ने टूर्नामेंट को स्थगित कर दिया। हालांकि बीसीसीआई के उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने साफ किया कि टूर्नामेंट टला है रद्द नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि कोविड 19 के नियत्रंण में आने के बाद बाकी मैच कराए जाएंगे।

हुसैन ने डेली मेल में लिखा कि खिलाड़ी देश में जो कुछ भी हो रहा है, उस पर आंख नहीं मूंद सकते थे। उनके द्वारा किए जा रहे योगदान और डोनेशन से स्पष्ट है, लेकिन स्थिति की गंभीरता को देखते हुए आईपीएल 2021 को स्थगित करना सही है। उन्होंने आगे लिखा कि इंडियन प्रीमियर लीग को बंद करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। इतने सारे स्थानों पर बायो सिक्योर बबल के टूटने के बाद तो बिल्कुल नहीं। यह क्रिकेट के खेल से कहीं अधिक बड़ा हो गया है।

उन्होंने आगे लिखा कि खिलाड़ी ना ही मूर्ख हैं और ना ही असंवेदनशील। उन्हें पूरी जानकारी थी कि भारत में क्या चल रहा है। उन्होंने टेलीविजन पर लोगों को अस्पताल में बेड के लिए और ऑक्सीजन के लिए गुहार लगाते देखा। उन्होंने देखा कि क्रिकेट ग्राउंड के बाहर एंबुलेंस को बिना उपयोग के खड़े हुए देखा।  उनको यह लगता था कि क्या यह सही समय है कि खेल को जारी रखा जाए। वो सभी इस चीज को लेकर काफी असहज थे।

उन्होंने कहा कि मैं खिलाड़ियों की आलोचना नहीं कर रहा हूं, लेकिन इसे बंद करना जरूरी था। यह तो एक समय पाप जैसा लगता है कि टूर्नामेंट चल रहा है जबकि सड़क पर लोग मर रहे हैं।  बीसीसीआई ने टूर्नामेंट को भारत में करवाकर सबसे बड़ी गलती की। छह महीने पहले, उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात में एक आईपीएल आयोजित किया था और वह शानदार रहा था।