ब्लू डार्ट ने वैक्सीन और आपात चिकित्सकीय आपूर्ति की डिलीवरी के लिए प्रायोगिक मानवरहित विमान प्रणाली (युएएस) के परिचालन हेतु ब्लू डार्ट मेड-एक्सप्रेस कंसोर्शियम का गठन किया

राष्ट्रीय : भारत की अग्रणी एक्सप्रेस लॉजिस्टिक्स सेवा प्रदाता कंपनी ब्लू डार्ट ने ब्लू डार्ट मेड-एक्सप्रेस कंसोर्शियम का गठन किया है, जिसका लक्ष्य भारत के सुदूर इलाकों में ड्रोन के जरिए वैक्सीन और आपातकालीन चिकित्सीय सामग्रियों की डिलीवरी का स्वरुप बदलना है। ब्लू डार्ट, डॉयचे पोस्ट डीएचएल ग्रूप (डीपीडीएचएल) का हिस्सा है। ब्लू डार्ट मेड-एक्सप्रेस कंसोर्शियम तेलंगाना सरकार, विश्व आर्थिक मंच, नीति आयोग और हेल्थनेट ग्लोबल के सहयोग से संचालित  ‘मेडिसिन फ्रॉम द स्काई’ परियोजना का हिस्सा है।

नागर विमानन मंत्रालय (MoCA) ने इस परियोजना को जरूरी छूट और प्रायोगिक स्तर पर तेलंगाना में ड्रोन के संचालन की अनुमित दी है। इसका मकसद वितरण केंद्र से निश्चित स्थानों तक स्वास्थ्य सेवाओं, मसलन दवा, कोविड-19 टीका, ब्लड, जांच उपकरण और अन्य जीवन रक्षक उपकरणों की सुरक्षित, सटीक और भरोसेमंद पिक अप और डिलीवरी के लिए वैकल्पिक लॉजिस्टिक मार्ग का आकलन करना है। 

ब्लू डार्ट आपूर्ति श्रृंखला के बुनियादी ढांचें में सुधार के लिए प्रतिबद्ध है और वह इस महामारी से सख्ती से निपटने की कोशिशों में लगा है। ब्लू डार्ट मेड-एक्सप्रेस की ड्रोन उड़ानें तेलंगाना के भीतर मौजूदा स्वास्थ्य सेवा लॉजिस्टिक्स को अनुकूलित करने के लिए एक इमर्सिव डिलीवरी मॉडल तैनात करेंगी। यह मॉडल जिला मेडिकल स्टोर और ब्लड बैंकों से पिकअप करके प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (PHCs), सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों (CHCs), रक्त संग्रहण इकाइयों को और इसके आगे PHCs / CHCs से केंद्रीय नैदानिक प्रयोगशालाओं को आपूर्ति की प्रक्रिया को समक्ष बनाएगा।

इस महामारी से लड़ने में देश की मदद करने के मामले में गर्व की भावना से ओत-प्रोत बैलफ़ोर मैनुएल, मैनेजिंग डायरेक्टर, ब्लू डार्ट  ने कहा कि, “एक साल से अधिक का समय हो चुका है और कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई  में कई नई चुनौतियाँ सामने आ रही है, जिसका हमें रियल टाइम में समाधान करने की जरूरत है। इस महामारी ने हम सभी को लॉजिस्टिक्स और प्रौद्योगिकी आधारित आपूर्ति श्रृंखला की अहमियत का एहसास दिलाया है। एक संगठन के तौर पर ब्लू डार्ट हमेशा से ही भविष्य की प्रौद्योगिकियों से घिरी रही है। हमारी इसी योग्यता ने हमें न केवल इस महामारी में टिकाए रखा बल्कि हमारी ग्रोथ को मजबूती मिली। हम देश के 35,000 से अधिक स्थलों तक पहुंच रखते हैं लेकिन मौजूदा स्थिति में वैक्सीन की पैठ और अधिक बढ़ाने की ज़रुरत है।”

नज़रों से दूर दुर्गम स्थलों तक ड्रोन के जरिए टीके की आपूर्ति के प्रयोग के बारे में केतन कुलकर्णी, सीएमओ और हेड – बिजनेस डेवलपमेंट, ब्लू डार्ट ने कहा कि, “कंसोर्शियम का उद्देश्य सुरक्षित, कुशल और किफायती ड्रोन डिलीवरी उड़ानों को सक्षम करना है। कुशल प्रणालियों से युक्त यह मौजूदा लॉजिस्टिक्स लागत को कम करने में मदद कर सकता है, जिससे स्वास्थ्य सेवा लॉजिस्टिक्स तेज और ज्यादा कार्यकुशल हो जाएगा। हमें परिचालन शुरू करने का अधिकार मिलने की खुशी है और निश्चित रूप से यह समय की जरूरत है। मानवता इस समय सर्वाधिक खराब दौर से गुजर रही है और ऐसे समय में ब्लू डार्ट अपने परिचालन क्षेत्र के समाज को वापस देने के लिए प्रतिबद्ध है, जिसमें वह संचालित होता है। ब्लू डार्ट एक कदम आगे बढ़ाने के लिए हमेशा तैयार रहेगा।” 

तेलंगाना सरकार में ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी (ओएसडी), आईटीईऐंडसी विभाग और एमर्जिंग टेक्नोलॉजिज की डायरेक्टर श्रीमति रमा देवी लंका ने कहा कि, “यह परियोजना भविष्य की नीतियों के अनुपालन और मौजूदा स्वास्थ्य सेवा आपूर्ति श्रृंखला के साथ एकीकरण की दिशा में वास्तविक और कार्रवाई योग्य अंतर्दृष्टि मुहैया कराएगी। कोविड-19 महामारी ने जिस तरह से मौजूदा आपूर्ति श्रृंखलाओं को नष्ट किया है, वैसे में ऐसी उत्कृष्ट तकनीकों को अपनाना समय की आवश्यकता है।”

तेलंगाना सरकार में आईटीईऐंडसी विभाग के प्रधान सचिव, श्री जयेश रंजन, आईएएस ने कहा कि, “तेलंगाना उभरती प्रौद्योगिकी को अपनाने के मामले में सर्वाधिक सक्रिय राज्यों में से एक रहा है और मेडिसिन फ्रॉम द स्काई परियोजना के जरिए ड्रोन से की जाने वाली आपूर्ति इसी सिद्धांतों के मुताबिक है। यह परियोजना देश की पहली ऐसी परियोजना है, जिसमें एक साथ स्वास्थ्य सेवाओं की आपूर्ति के लिए कई ड्रोन को संचालित किया जाएगा। इसके पीछे का मकसद ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सेवा की समानता सुनिश्चित करना है।”

ब्लू डार्ट महामारी के खिलाफ लड़ाई में देश की लगातार मदद कर रहा है। राष्ट्र के कारोबार के सुचारू संचालन में मददगार के रूप में  ब्लू डार्ट ने यह सुनिश्चित किया है कि देश भर में महत्वपूर्ण शिपमेंट की डिलीवरी सुनिश्चित होती रहे और जीवन सुचारू रूप से चलता रहे। 

इस सिद्धांत के प्रति अपनी वचनबद्धता को ध्यान में रखते हुए ब्लू डार्ट महामारी की शुरुआत के समय से ही बेहद महत्वपूर्ण सप्लाई चेन को बनाए रखने की दिशा में अथक रूप से प्रयासरत रहा है। ब्लू डार्ट आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखने और कोविड जांच किट, वेंटिलेटर, पीपीई किट, टेस्टिंग किट, एंजाइम, रेसपिरेटर्स, सर्जिकल मास्क, गॉगल्स और दस्तानों के साथ अन्य महत्वपूर्ण शिपमेंट की आपूर्ति के लिए फार्मा और चिकित्सकीय उपकरण निर्माता कंपनियों के साथ मिलकर काम कर रही है। कंपनी के छह बोइंग 757 मालवाहक बड़े पैमाने पर शिपमेंट की ढुलाई को तेजी से संचालित करने में मदद देते हैं। 

---------------------------------------------------------------------------------------------------------

About Blue Dart:

Blue Dart Express Ltd., South Asia's premier express air and integrated transportation & distribution company, offers secure and reliable delivery of consignments to over 35,000 locations in India. As part of Deutsche Post DHL Group’s DHL eCommerce Solutions division, Blue Dart accesses the largest and most comprehensive express and logistics network worldwide, covering over 220 countries & territories, and offers an entire spectrum of distribution services including air express, freight forwarding, supply chain solutions, customs clearance etc.

The Blue Dart team drives market leadership through its motivated people, dedicated air and ground capacity, cutting-edge technology, wide range of innovative, vertical specific products and value-added services to deliver unmatched standards of service quality to its customers. Blue Dart's market leadership is further validated by its position as the nation’s most innovative and awarded express logistics company for exhibiting reliability, superior brand experience and sustainability which include recognition as one of ‘India's Best Companies to Work For’ by The Great Place to Work® Institute, India, ranked amongst ‘Best Multinational Workplaces in Asia’ by The Great Place to Work® Institute, Asia, voted a ‘Superbrand’ and ‘Reader’s Digest Most Trusted Brand’, listed as one of Fortune 500’s ‘India's Largest Corporations’ and Forbes ‘India's Super 50 Companies’ to name a few.

Under the DPDHL group motto of “Connecting People, Improving Lives”, we focus our corporate responsibility under three pillars - GoTeach (Championing education), GoGreen (Protecting the environment) and GoHelp (Structures engagement with communities & Disaster management response).