आशीष नेहरा ने पृथ्वी शॉ की बल्लेबाजी की तारीफ करते हुए कहा

 

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने पृथ्वी शॉ की बल्लेबाजी की तारीफ करते हुए कहा कि इस खिलाड़ी ने अपनी तकनीकी खामियों को दूर करने के लिए कड़ी मेहनत की है। उन्होंने कहा कि 21 साल के युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को ज्यादा मौके देने चाहिए थे जब चीजें उनके मुताबिक नहीं हो रही थी। शॉ टीम इंडिया की तरफ से आखिरी बार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड टेस्ट में खेले थे।जहां उनकी तकनीकी खामियां सामने आई थी।

एडिलेट टेस्ट में वो पहली पारी में जीरो और दूसरी पारी में 2 रन बनाकर आउट हो गए थे। इसके बाद बाकी टेस्ट मैचों के लिए टीम इंडिया से उनकी छुट्टी हो गई थी। आशीष नेहरा ने कहा है कि ये काफी कठिन फैसला था। नेहरा ने क्रिकबज से कहा कि जहां तक तकनीक का सवाल है किसी भी खिलाड़ी के लिए इसे एडजस्ट करना कठिन होता है। एडिलेट टेस्ट के दौरान वो ऐसा खिलाड़ी नहीं था जिसे 30 से 40 टेस्ट मैच का अनुभव हो। हम एक युवा खिलाड़ी के बारे में बात कर रहे हैं। एक टेस्ट मैच के आधार पर उसे ड्रॉप करना कठिन था।

इसके बाद पृथ्वी शॉ ने भारत आकर अपनी बल्लेबाजी पर काम किया। आईपीएल 14 से पहले खेली गई विजय हजारे ट्रॉफी में वो 800 से अधिक रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज बने। आईपीएल 2021 में 8 मैचों में उन्होंने में 308 रन बनाए। आईपीएल 2020 में शॉ का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था। शानदार अर्धशतकों से शुरुआत करने के बाद वो तीन बार जीरो पर आउट हुए। नेहरा ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया टेस्ट की तरह शॉ को दिल्ली कैपिटल्स ने ड्रॉप नहीं करना चाहिए था, खासकर उनके सीनियर अजिंक्य रहाणे के लिए। रहाणे ने दो मैचों में 8 रन बनाए थे।

नेहरा ने कहा कि भले ही भारत सीरीज जीतने के लिए गया था। लेकिन फिर भी मुझे लगता है कि उसे एक टेस्ट के बाद बैंच पर नहीं बैठाना चाहिए था। पिछले साल आईपीएल में भी उसे नहीं बैठाना चाहिए था, जब उसने कुछ अच्छी पारियां खेली और स्कोर नहीं कर सके। लेकिन अगर आप टी20 की बात करेंगे तो मैं हमेशा ऐसे खिलाड़ी को सपोर्ट करूंगा जिसके खाते में रहाणे से अधिक रन है। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि रहाणे अच्छे खिलाड़ी हैं लेकिन टी 20 में आपको शॉ, पंत, हेटमायर और स्टोइनिस जैसे विस्फोटक खिलाड़ियो की जरूरत है।