थोड़ा मुस्कुरा लेते हैं...

चलो आज थोड़ा सा मुस्कुरा लेते हैं

ज़िन्दगी तो हर कदम एक जंग है

चलो ज़िन्दगी को जीत कर

जंग को हरा देते हैं

चलो आज थोड़ा सा मुस्कुरा लेते हैं

हर गली हर मोड़ पर दुश्मन मिलेंगे

चलो आज दुश्मनी भूल कर 

दुश्मन को भी गले लगा लेते हैं

चलो आज थोड़ा सा मुस्कुरा लेते हैं

ज़िन्दगी की राहें थोड़ी मुश्किल हैं

लेकिन तुम रुकना नही चलते जाना

हौंसले की उड़ान से चलो आज

मंज़िल को भी पा ही लेते हैं

चलो आज थोड़ा सा मुस्कुरा लेते हैं

वक़्त है किसी के लिए रुकता नही

कब करवट ले ले पता नही

चलो आज वक्त के सामने डट कर

वक़्त को ही अपना बना लेते हैं

चलो आज थोड़ा सा मुस्कुरा लेते हैं


मौलिक एवं स्वरचित

रीटा मक्कड़