मास्क के अधिक उपयोग से होती है ऑक्सीजन की कमी, जानें क्या है इसकी सच्चाई

सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस महामारी को लेकर एक और हैरान कर देने वाला दावा किया जा रहा है। जैसे कि हम जानते हैं कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क ही एक मात्र हमारा सुरक्षा कवच है। वहीं, सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है कि लंबे समय तक मास्क के उपयोग से शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की अधिकता और ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। वहीं जब इस दावे पर पीआईबी द्वारा फैक्ट चेक किया तो इसे फर्जी बताया गया। पीआईबी का कहना है कि यह दावा बिल्कुल फर्जी हैं।  कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सही तरीके से मास्क जरूर लगाएं। सरकार, स्वास्थ्य मंत्रालय, डॉक्टरों और विशेषज्ञ बार-बार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क बेहद जरूरी है। बिना मास्क के कहीं भी न जाएं। ऐसे में इस तरह के मैसेज पर ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है। बतां दें कि इससे पहले डाॅक्टर और एक्सपर्ट ने यहां तक कह दिया है कि यह वायरस इतना खरतनाक होता जा रहा है कि आने वाले समय में मास्क को घर पर भी पहन कर रखना पड़ेगा, इसके अलावा जब बाहर जाएं तो दो मास्क का उपयोग करें।