मनीष सिसोदिया : दिल्ली में कम हुई हमारी जरूरत, केंद्र घटा सकती है कोटा

दिल्ली : दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि दिल्ली में केस कम होने के कारण बीते कुछ दिनों से ऑक्सीजन की जरूरत कम हो गई है। ऐसे में अगर केंद्र सरकार चाहे तो दिल्ली का ऑक्सीजन कोटा 700 मीट्रिक टन से घटाकर 582 कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि एक जिम्मेदार सरकार होने के नाते हम चाहते हैं कि दिल्ली को मिल रही अतिरिक्त ऑक्सीजन की खेप को जरूरतमंद राज्य को उपलब्ध करा दिया जाए।

मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली में एक समय करीब 15 दिन पहले कोरोना के केस एकदम बाढ़ की तरह आगे बढ़ रहे थे और पॉजिटिविटी रेट भी 35 प्रतिशत पहुंच गया था। 80 हजार तक रोज टेस्ट हो रहे थे और लगभग 28 हजार तक केस एक दिन में आए हैं। वह भी अब घटकर नीचे आ गई है।

उन्होंने बताया कि आज(गुरुवार) 10,400 के करीब मामले आए हैं और पॉजिटिविटी रेट भी घटकर 14 प्रतिशत हो गई है। अब केस कम हुए हैं। केस तेजी से बढ़ने से ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ी थी लेकिन अब केस कम होने से ऑक्सीजन की मांग भी कम हो गई है।

जब केस बढ़ रहे थे तो हमने गणना कर पाया था कि उस वक्त दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरूरत प्रतिदिन थी। जब केंद्र सरकार, दिल्ली हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट की मदद से हमें ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में मिलनी शुरू हुई तो अस्पतालों से आने वाले एसओएस भी कम हुए।

सिसोदिया आगे बोले, अब पूरे दिन में किसी एक या दो अस्पताल से ऑक्सीजन के लिए एसओएस आता है। हम इस पूरे समय में केंद्र सरकार, हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट ने जो मदद की उसके लिए उन्हें धन्यवाद देते हैं। आज हमने फिर से सभी चीजों की गणना की है और अस्पतालों में भरे बेड व अन्य मरीजों की जरूरतों को देखते हुए पाया है कि अब दिल्ली में प्रतिदिन 582 मीट्रिक टन की आवश्यकता है।

सिसोदिया ने जानकारी दी कि आज उन्होंने केंद्र को चिट्ठी लिखी है और बताया है कि दिल्ली काम अब 700 की जगह 582 मीट्रिक टन ऑक्सीजन में चल जाएगा और हमें जो अतिरिक्त ऑक्सीजन मिल रही है उसे जरूरतमंद राज्य को दिया जा सकता है। एक जिम्मेदार सरकार होने के नाते हमने इस बारे में केंद्र को जानकारी दे दी है।