खाद्यान्न घोटाले में पूर्व प्रमुख समेत तीन को गिरफ्तार किया ईओडब्लू ने

 बलिया । खाद्यान्न घोटाले में आरोपी पूर्व प्रमुख समें तीन गिरफ्तार । 2002 से 2006 के बीच संपूर्ण ग्रामीण रोजगार योजना के मजदूरों के खाद्यान्न वितरण में करोड़ों रुपए के घोटाले में आर्थिक अपराध शाखा बाराणसी (ई ओ डब्लू) की टीम ने मनियर ब्लाक के तत्कालीन ब्लाक प्रमुख मनियर प्रभुनाथ पटेल ,मानिकपुर के कोटेदार ऋषिदेव सिंह व तत्कालीन सेक्रेटरी निवासी निपनिया तुलसीराम को मनियर पुलिस के सहयोग से  हिरासत में ले कर चली गई । जैसे ही इन आरोपियों की गिरफ्तारी हुई मनियर थाना क्षेत्र में हड़कंप मच गया। इन आरोपियों के परिजन मनियर थाने पर पहुंच गए लेकिन ई ओ डब्लू की टीम पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। पूछे जाने पर इस संदर्भ में ई ओ डब्लू के इंस्पेक्टर कृष्ण मुरारी मिश्रा ने सिर्फ इतना ही कहा कि खाद्यान्न घोटाला का मामला है ।थाना अध्यक्ष मनियर शैलेश सिंह ने कहा कि तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसी मामले में आरोपी पंच देव तिवारी निवासी रामपुर पूरब तत्कालीन सेक्रेटरी की मृत्यु हो चुकी है। इसके अलावे प्रभुनाथ पटेल ,ऋषि देव सिंह, तुलसीराम की गिरफ्तारी हुई  है।

 इस खाद्यान्न घोटाले में आईएएस अधिकारी सहित डी एस ओ, तहसीलदार ,सी डी ओ ,पी डी ,वीडियो,कोटेदार आदि  सहित 6055 लोगों पर गबन का मुकदमा दर्ज हुआ था। जिसमें बलिया जनपद के 17 ब्लाकों के कोटेदार ,अधिकारी  व कर्मचारी आरोपित हुए थे ।बताते चलें कि कुछ दिन पूर्व विधानसभा की आश्वासन समिति की बैठक में बलिया और जौनपुर में हुए घोटाले की जांच और उस में हुई कार्रवाई की समीक्षा हुई थी ।इसके बाद ईओडब्ल्यू की टीम सक्रिय हुई और आरोपियों की धरपकड़ में जुट गई।

यह है मामला-संपूर्ण ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत  2006में काम के बदले खाद्यान्न को काला बाजार में बेच दिया गया था । इसमें पूरे जनपद के 14थानों मे 51एफआईआर कराया गया था जिसमें 6049लोगों को आरोपी बनाया गया था।  इसमे खाद्यान्न की ढुलाई स्कूटर व बाईक के नंबर दर्ज कर ढुलाई दर्शाया गया था ।