कोरोना आंकड़ों को लेकर शशि थरूर ने स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन पर बोला हमला

नई दिल्ली: वरिष्ठ कांग्रेस नेता शशि थरूर ने सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन पर कोरोना के आंकड़ों को लेकर हमला किया. स्वास्थ्य मंत्री ने शनिवार को कहा था कि भारत में पिछले सात दिनों में 180 जिलों में कोरोना के एक भी नए मामले नहीं आए हैं. इसपर थरूर ने कहा कि 'यह दुखद है कि देश जब मुश्किल से सांसें ले रहा है, तब स्वास्थ्य मंत्री किसी दूसरी वास्तविकता में जी रहे हैं.'

डॉक्टर हर्षवर्धन ने शनिवार को मंत्रियों की कोविड-19 की समीक्षा वाली 25वीं बैठक में कहा था कि देश के 180 जिलों में सात दिनों कोरोना के एक भी नए मामले सामने आए हैं, 18 जिलों में 14 दिनों में एक भी केस नहीं आए हैं, 21 दिनों में 54 जिलों में एक भी केस नहीं और पिछले 28 दिनों में 32 जिलों में एक भी नए केस नहीं आए हैं.

इसपर थरूर ने ट्वीट कर कहा कि 'दुखद है कि जब देश सांसों के लिए संघर्ष कर रहा है और दुनिया भारत का दुख देख रही है, तब स्वास्थ्य मंत्री एक दूसरी दुनिया में रहे रहे हैं. क्या कोई डॉक्टर फाउची (वाइट हाउस के चीफ मेडिकल एडवाइजर) को SMS पर खुशी मनाते हुए, फर्जी दवाओं और अप्रमाणित थेरेपीज़ को बढ़ावा देते हुए सोच सकता है, हमारे आंकड़ों पर किसी को भरोसा नहीं है.'

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री के एक पुराने ट्वीट को भी टैग किया, जिसमें उन्होंने कोविन प्लेटफॉर्म पर तीसरे चरण की वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत को लेकर ट्वीट किया था. उन्होंने कहा था कि 'महज तीन घंटों में 80 लाख लोगों ने रजिस्टर किया, 1.45 करोड़ SMS डिलीवर हुए और 38.3 करोड़ API हिट रिकॉर्ड हुए.' थरूर ने पूछा, 'क्या SMS डिलीवर होने का मतलब कोविड के खिलाफ लड़ाई में जीत है?'

थरूर ने एक मीडिया रिपोर्ट को भी साझा किया, जिसमें इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने स्वास्थ्य मंत्री से पतंजलि की कोरोनिल टैबलेट को 'बढ़ावा' देने पर स्पष्टीकरण मांगा था. एक अन्य ट्वीट में थरूर ने पूछा कि सरकार बजट में आवंटित किए गए 35,000 करोड़ को क्यों नहीं खर्च कर रही है और वैक्सीन का खर्चा राज्यों के ऊपर क्यों डाल रही है? कांग्रेस सांसद ने कहा, 'एक बार संसद ने इसे मंजूरी दे दी है तो सरकार पैसों पर क्यों बैठी है? रिकॉर्ड जीएसटी कलेक्शन और फ्यूल टैक्स से सरकार को काफी लाभ मिला है, वैक्सीन खरीदें!!'