इस वजह से ओलंपिक क्वालिफायर में नहीं खेलना चाहती थी भवानी देवी

टोक्यो का टिकट कटाने वाली एकमात्र भारतीय तलवारबाज भवानी देवी ने खुलासा किया है कि वह मां के कोरोना संक्रमित होने के कारण मार्च में हुए ओलंपिक क्वालिफायर टूर्नामेंट से हटना चाहती थीं। उन्होंने कहा कि मां के कहने पर ही न चाहते हुए भी मैंने टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। इटली में तैयारी कर रहीं भवानी ने कहा कि हंगरी के बुडापेस्ट में मार्च में हुई क्वालिफाइंग प्रतियोगिता से पहले मेरी मां अस्तपाल में भर्ती थी। वह कोरोना संक्रमित थी और दो महीने तक अस्पताल में रही। मैं सही में इस टूर्नामेंट में नहीं खेलना चाहती थी। मैं उनसे मिलना चाहती थी। पर मां ने अस्पताल में होने के बावजूद कहा चिंता मत करो मैं ठीक हूं। मुझे थोड़े आराम की जरूरत है। मैं जल्द ही घर लौटूंगी। तुम सिर्फ अपने खेल पर ध्यान दो। भवानी ने हंगरी में मार्च में हुए विश्व कप से ही समायोजित आधिकारिक रैंकिंग (एओआर) के आधार पर ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया था। वह क्वालिफाइंग के जरिए ओलंपिक में जगह बनाने वाली देश की पहली तलवारबाज हैं।