होम आइसोलेशन में मरीज़ों को शत-प्रतिशत दवाई उपलब्ध करायी जाएः मण्डलायुक्त

सहारनपुर। मण्डलायुक्त ए.वी.राजमौलि ने कहा है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 से संक्रमित कोई भी मरीज इलाज से वंचित न रहें। उन्होंने कहा कि टेलीमेडिसिन की व्यवस्था को और अधिक सुदृढ किया जाए तथा मरीजों को बेहतर सुविधा उपलब्ध करायी जाए। उन्होने कहा कि मरीजों की समस्याओं के समाधान के साथ उन्हे भय की स्थिति से बाहर निकालने का प्रयास किया जाए। उन्होने कहा कि होम आइसोलेट मरीजों को दवाई की किट शत-प्रतिशत उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए। उन्होने कहा कि पंचायत चुनाव के मतगणना कार्य में कोविड-19 के नियमों का कडाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए। उन्होने कहा कि मतगणना में पारदर्शिता के साथ सख्ती से सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाए। उन्होने कहा कि प्रत्येक मतगणना केन्द्र पर एम्बुलेंस, जीवन रक्षक दवाईयां, कोविड टैस्ट किट की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाए। बिना टैस्टिंग के किसी का भी मतगणना केन्द्र में प्रवेश नहीं होगा। उन्होने कहा कि मतगणना कार्मिकों के संक्रमित अथवा संक्रमण के लक्षण होने की स्थिति में उनके स्थान पर प्रशिक्षित मानव संसाधन उपलब्ध रहें। मतगणना केन्द्र में अथवा बाहर किसी भी प्रकार की भीड न इकट्ठा होने पाए। उन्होने कहा कि किसी भी व्यक्ति को विजय जुलूस निकालने की अनुमति नही होगी। उन्होने कहा सभी अधिकारी 24 घण्टे अपना मोबाईल फोन ऑन रखेंगे और आवश्यकता पडने पर काॅल रिसीव कर जनता की समस्याओं का निस्तारण करेंगे। उन्होने कहा कि कोविड संसाधनों का शत-प्रतिशत सही उपयोग किया जाए।

मण्डलायुक्त एवी राजमौलि आज यहां वर्चुअल माध्यम से मण्डल के जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधिक्षकों को कोविड संक्रमण की रोकथाम तथा त्रिस्तरीय पंचायत मतगणना को शांतिपूर्ण और पारदर्शिता से सम्पन्न कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रत्येक कोविड अस्पताल अपने यहां उपलब्ध बैड की संख्या तथा मरीजों की संख्या का एक डिस्पले बोर्ड लगाना सुनिश्चित करें तथा इसकी सूचना एकीकृत कोविड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सैन्टर को भी दी जाए। उन्होने कहा कि इस आपदा के समय में हम सभी को धैर्यपूर्वक संक्रमण की चुनौती का सामना करना है। उन्होंने कहा कि मण्डल के तीनों जनपदों में आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन की उपलब्धता व आपूर्ति सुनिश्चित किये जाने के साथ ही जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। उन्होने कहा यदि जीवन रक्षक दवाओं की कहीं पर भी कालाबाजारी की घटना पायी जाती है तो संबंधित के विरूद्ध तत्काल सख्त कार्यवाही की जाए। उन्होने कहा कि होम आइसोलेट मरीजों को यह भी समझाया जाए कि कोविड प्रोटोकाल का सही से पालन करने पर तथा समय से दवाई लेने पर आप बिलकुल ठीक हो जाएंगे। उन्होने कहा कि रात्रि कफ्र्यू और साप्ताहिक कफ्र्यू को और अधिक प्रभावशाली बनाया जाए साथ ही कफ्र्यू के दौरान अधिक से अधिक साफ-सफाई और सेनेटाइजेशन तथा फाॅगिंग पर ध्यान दिया जाए। उन्होने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सेनेटाइजेशन के साथ ही अधिक से अधिक लोगों को प्रचार-प्रसार के माध्यम से जागरूक किया जाए।

मण्डलायुक्त एवी राजमौलि ने कहा कि वरिष्ठ चिकित्सक कोविड अस्पतालों में निरन्तर भ्रमण करें। उन्होने कहा कि डाॅक्टर्स व पैरामेडिक्स तथा सफाई कर्मी स्वयं का बचाव करते हुए कोविड मरीजों का ख्याल रखें। डाॅक्टर्स व पैरामेडिक्स के संक्रमित होने की स्थिति में प्रशिक्षित मानव संसाधन उपलब्ध रहें। उन्होंने कहा कि हर जनपद में हेल्पलाइन की व्यवस्था की गई है। इन हेल्पलाइनों में प्रशिक्षित व संवेदनशील लोगों की ड्यूटी लगायी जाए। उन्होने कहा कि होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड मरीजों से निरन्तर संवाद कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली जाए साथ ही उन्हें शत-प्रतिशत मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए।

वर्चुअल बैठक में जिलाधिकारी सहारनपुर  अखिलेश सिंह, मुजफ्फरनगर श्रीमती सेल्वा कुमारी जे, शामली श्रीमती जसजीत कौर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहारनपुर डाॅ.एस.चन्नप्पा, मुजफ्फरनगर  अभिषेक यादव, पुलिस अधीक्षक शामली  सुकिर्ति माधव, मुख्य विकास अधिकारी सहारनपुर  प्रणय सिंह, मुजफ्फरनगर आलोक यादव, शामली  शंभुनाथ तिवारी, अपर निदेशक स्वास्थ्य श्रीमती अनिता जोशी तथा उप निदेशक पिछड़ा वर्ग कल्याण शरद श्रीवास्तव मौजूद थे।