शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बेहद कारगर है गिलोय, घर में ऐसे लगाएं इसका पौधा

गिलोय, एक मेडिसिनल प्लांट है। कोरोना काल में यह पौधा काफी चर्चित में है। डाॅक्टर्स ही नहीं देश के एक्सपर्ट भी गिलोय के काढ़े को लोगों को पीने की सलाह दे चुके हैं। बतां दें कि,  गिलोय  इम्यून सिस्टम को स्ट्रांग करने और लिवर से जुड़ी बीमारियों में काफी असरदार है। जब से कोरोना का संक्रमण फैला है और इससे बचाव के लिए काढ़ा भी लाभकारी बताया गया है, तब से गिलोय का सेवन लगभग हर कोई कर रहा है।  इस पौधे को आप अपने किचन गार्डन और बालकनी के गमले में भी लगा सकते हैं। आईए जानते हैं इसे गर में कैसे लगाएं- 

किस मौसम में लगाए गिलोय का पौधा- 

गिलोय का पौधा सर्दी के मौसम को छोड़कर सभी मौसमों में लगाया जा सकता है। 

जानिए, गिलोय के गुण-

गिलोय में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी के गुण काफी पाए जाते हैं। इसके अलावा गिलोय के पौधे में आयरन, फास्फोरस, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्वों की मात्रा भी पाई जाती है। ऐसे चमत्कारी गुणों की वजह से इन दिनों गिलोय के पौधे की मांग ज्यादा बढ़ने लगी है। 

कोरोना के अलावा इन बीमारियों से बचने के लिए काफी कारगार है गिलोय-

इन दिनों कोरोनावायरस से बचने के लिए इसका इस्तेमाल काफी किया जा रहा है। गिलोय का पौधा का इस्तेमाल ज्यादातर डेंगू, बुखार और खांसी जैसे बीमारियों में किया जाता हैं। इसे आप गमले में भी आसानी से लगा सकते है। 

बारिश के मौसम में जल्दी तैयार होता है गिलोय-

गिलोय को बारिश के मौसम में तैयार होंने में 15 से 20 दिन लगते है। वहीं गर्मी के दिनों में गिलोंय को बढ़ने में 20 से 25 दिन लगते है। इन दिनों कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप में यदि आप गिलोय का सेवन करें, तो आप अपनी इम्यूनिटी को बूस्ट कर सकते है।

इस तरह घर में लगाएं गिलोय का पौधा

पहला तरीका-

-गिलोय के पौधे को घर में लगाने के लिए सबसे पहले उसके बीज को अलग कर सुखा लें।

-इसके बाद एक गमले में मिट्टी को हल्का कर उसमें अपने हाथों से गिलोय के बीच को अच्छी तरह अंदर डालें। और नियमित तौर पर हल्का-हल्का पानी जालते रहें। 

दूसरा तरीका-

-गिलोय को 24 घंटे के लिए पानी में काट कर रख दें। इसके बाद  5 से 6 इंच लंबा काट ले। ध्यान रखें कि इसमें 4 से 5 नोड्स जरूर होने चाहिए। 

-अब पौधे को लगाने के लिए एक गमले लें। गमले में गिलोय के डंडे को अच्छी तरह उंगलियों से दबाकर लगाएं। इसके बाद उसके ऊपर थोड़ा पानी डाल दे।

जब गिलोय का पौधा लग जाए तो इसमें समय-समय पर पानी व खाद देना न भूले।