मैं मजदूर हु।

मैं मजदूर हु।

मैं मजबूर हु।

हम मजदूरों का जीवन सिर्फ कहानी में न गुजरे..

किसी मजदूर का बेटा अपने जवानी में न गुजरे..!!

हम दो पैसे कम कमाएं,लेकिन गाँव मे ही रहेंगे..

बस हमारा जीवन इस तरह बलिदानी में न गुजरे..!

मजदूरों की लाचारी,दशा पर ओये सौरभ इतना ही कहेगा..

कि भगवान किसी मजदूर की साइकिल नीलामी में न गुजरे..!!

हम चार पैसे कमाकर और दो रोटी खा कर ही खुश है..

हमारा खान-पान अमीरो की तरह बिरयानी में न गुज़रे..!!

कुछ सुकून,शांति और आराम हमे भी चाहिए होता है मेरे मालिक..

कमाने में जीवन गांव से शहर और शहर से गांव की प्रस्थानी में न गुजरे..!!

गांव में ही रोजगार और नौकरी दे दो हमको साहेब..

ताकि मजदूरी के लिए हमारा जीवन मुम्बई और राजधानी में न गुजरे..!!

मैं थक-हार कर सो जाऊंगा रेल की पटरियों पर..

दुआ करना कोई रेलगाड़ी आवगमनी में न गुजरे..!

ट्रक में भर-भरकर हमे जानवर तो बना ही दिया..

पशु भले बेजुबान है लेकिन हम बेजुबानी में न गुजरे..!!

हमारे साथ सरकार भी देख रही मजदूरों की लाचारी..

उनको ड़र है कि उनकी सरकार अपमानी में न गुजरे..!

सत्ताधारियों तुमसे कोई शिकवा नही तुम मौज करो..

लेकिन साहेब हमारा भी जीवन सिर्फ दाना-पानी मे न गुजरे..!!

खाने का पैकेट देखकर,हम एक दूसरे को खींच रहे..

मेरे रब किसी का जीवन ऐसे खींचातानी में न गुजरे..!!

चौराहे पर बैठे लड़के से पूछा सौरभ,क्या देख रहे हो..

कहा,देख रहा कोई फरिश्ता रोटियां लेकर चारमुहानी से न गुजरे..!!

अमल करोगे हमारे हालात पर तो रो पड़ोगे ऐ राजनेताओं..

दुआ करूँगा की आप बड़े लोग उस समय ग्लानि में न गुजरे..!!

आवाज दबा दी जाती है आखिर गुनाह क्या है हमारा..

हमारी बात सिर्फ अखबारों और संविधानी में न गुजरे..!!

मैं पैर के छालों और भूख प्यास सब सह लूंगा..

लेकिन इन साहेब लोगो का भी जीवन गुमानी में न गुजरे..!!

कह रहा सौरभ,अधिकारों के लिए कन्धा मिला लो मजदूर भाइयो..

हम आवाज़ बुलंद करेंगे ताकि प्रशासन मनमानी में न गुजरे..!!

अगर मजदूर और किसान होना इसे कहते है तो माफ करना दोस्त..

सौरभ बोलेगा कि किसी की ज़िंदगी मजदूरी और किसानी में न गुजरे..!!

सौरभ 'शुभ'

सिवान,बिहार