बिहार में लॉकडाउन का असर, मिले 7 हजार से भी कम नए कोरोना मरीज

 बिहार : देशभर में फैले कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने के लिए कई राज्यों ने अपने यहां लॉकडाउन लागू कर रखा है। बिहार सरकार ने भी राज्य में कोविड के मामलों को नियंत्रित करने के लिए सख्त लॉकडाउन लगाया हुआ है, जिसके सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं। राहत की बात है कि प्रदेश में एक दिन में सामने आने वाले कोरोना के नए मामलों की संख्या में कमी आना जारी है और मरीजों के ठीक होने की दर में बढ़त जारी है। साथ ही संक्रमण दर में भी कमी दर्ज की जा रही है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में कई हफ्ते के बाद पहली बार कोरोना के नए मामलों की संख्या सात हजार से कम रही। विभाग ने बताया कि अब तक 5.72 लाख मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 75,089 हो गई है। राज्य में अब मरीजों के ठीक होने की दर 87.89 प्रतिशत है और इसमें एक पखवाड़े में करीब 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। वहीं, गत दो हफ्ते में संक्रमण दर भी 15.7 प्रतिशत से कम होकर 5.7 प्रतिशत रह गई है। राज्य में अब तक 90 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण भी हो चुका है।

बिहार में रविवार (16 मई) को कोविड-19 से 89 और मरीजों की मौत हो गई, जिससे राज्य में मृतकों की संख्या बढ़कर 3,832 हो गई। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि यहां कोरोना वायरस के 6,894 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही बिहार में अब तक संक्रमित हुए लोगों की संख्या बढ़कर 6.51 लाख हो गई। 

विभाग ने जानकारी दी कि मई की शुरुआत से अभी तक राज्य में एक हजार से अधिक मरीजों की संक्रमण से जान गई है, जब कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए लॉकडाउन लागू किया गया था। कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 3,832 हो गई है।