पीएम मोदी का DMK-कांग्रेस पर वार, कहा- उनके नेता महिलाओं का अपमान करते हैं

मदुरै: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को तमिलनाडु में द्रमुक (DMK) और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि उनके नेता महिलाओं का अपमान करते रहते हैं. साथ ही उन्होंने रेखांकित किया कि NDA की योजनाओं का लक्ष्य महिलाओं का सशक्तिकरण है. पीएम मोदी ने मदुरै की रैली में जलीकट्टू कार्ड भी बखूबी खेला. उन्होंने कहा कि तमिल संस्कृति महत्वपूर्ण है. प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि DMK और कांग्रेस तमिलनाडु की संस्कृति का अपमान कर रहे हैं और जलीकट्टू को गैरकानूनी घोषित कराने का प्रयास कर रहे हैं.

तमिलनाडु में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने लोगों से 6 अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनाव में सहयोगी पार्टी अन्नाद्रमुक समेत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार के पक्ष में वोट करने की अपील की. उन्होंने कहा कि दिवगंत मुख्यमंत्री दिवंगत एम जी रामचंद्रन का समावेशी विकास एवं समृद्ध समाज का दृष्टिकोण हमें प्रेरित करता है.

द्रमुक और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि उनके पास बात करने के लिए कोई एजेंडा नहीं है और आरोप लगाया कि साथ चुनाव लड़ रहीं दोनो पार्टियां लोगों की सुरक्षा और मान-सम्मान तक की गारंटी नहीं देंगी और उनके शासन में कानून व्यवस्था बिगड़ जाएगी.

उन्होंने परोक्ष रूप से द्रमुक के प्रथम परिवार में दो भाइयों एम के स्टालिन और एम के अलागिरी के बीच विवाद का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि इससे पूर्व पार्टी ने पारिवारिक मुद्दों के चलते शांतिप्रिय मदुरै को माफिया के गढ़ में बदलने का प्रयास किया.

पीएम मोदी ने स्थानीय देवी मीनाक्षी अम्मन और उनके लोकप्रिय नामों कन्नागी, रानी मंगम्मल और वेलु नाचियार का उल्लेख करते हुए कहा कि मदुरै नारी शक्ति के सशक्तिकरण की सीख देता है. उन्होंने कहा कि उज्ज्वला योजना समेत राजग की कई योजनाएं महिलाओं के सशक्तिकरण पर केंद्रित है.

उन्होंने किसी का नाम लिए बगैर कहा, ‘‘द्रमुक और कांग्रेस इन मूल्यों को नहीं समझते. इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि उनके नेता महिलाओं का बार-बार अपमान करते हैं.'' द्रमुक नेता ए राजा इससे पहले एक चुनावी रैली में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी की मां के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी कर विवाद में घिर चुके हैं, जिसकी काफी आलोचना हुई. सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने बृहस्पतिवार को 48 घंटे के लिए राजा के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी और उनकी पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची से उनका नाम हटा दिया.