पटाखे से भी तेज आवाज निकालने वाली गाड़ियों पर प्रशासन लगाम कस पाने पर पूरी तरह फेल।

फतेहपुर। बिन्दकी नगर में इन दिनों पटाखे से भी तेज आवाज निकालने वाली बाइकों की भरमार ज्यादा है जो दिन दहाड़े नगर के मुख्य चैराहों व गली कूंचों में व स्कूलों व कॉलेजों के बाहर शोहदे तेज आवाज के साथ फर्राटे भरते हुए नजर आ जाएंगे इतना ही नहीं बल्कि तेज आवाज की बाइकों का आतंक बिन्दकी नगर में इतना ज्यादा हो गया है जो रात के अंधेरों में भी लोगों की नींदे तक हराम कर देती हैं जिसमें सबसे ज्यादा नवयुवकों द्वारा तेज आवाज की गाड़ियां इस्तेमाल की जा रहीं हैं जिनमे से मुख्य रूप से रॉयल एनफील्ड की बुलेट गाड़ी नवयुवकों की पहली पसन्द बनी है तो वहीं दूसरे नम्बर पर अपाचे आरटीआर बाइक सड़कों में नागिन बनाकर चलाना शोहदों की दूसरी पसन्द है जबकि तेज आवाज वाली गाड़ियों पर पूर्णतः प्रतिबन्ध है जिसके बाद भी लोगों द्वारा एजेंसी से गाड़ी निकलवाने के बाद सीधा मोटर बाइक रिपेयरिंग की दुकानों में खड़ी कर कम्पनी की एसेसीरीज निकलवा मोडीफाई कराते नजर आ जाते हैं साथ ही बाइक में कम्पनी से लगकर आये हुए सरेन्सर को निकलवा दूसरे सरेन्सर लगवाए जाते हैं जो कि किसी तेज पटाखे से भी ज्यादा तेज आवाज निकालते हैं ऐसे में बाइक में लगी कम्पनी की एसेसिरीज बाहर खुली दुकानों में बदलने वाले रिपेयरिंग सेंटरों के साथ साथ उक्त बाइकों को भी सीज कर देना चाहिए लेकिन स्थानीय प्रशासन पूरी तरह से ऐसे मामलों में फेल साबित हो रहा है आपको बताते चलें कि बिन्दकी नगर में ज्यादातर तेज आवाजें करने वाली बाइकें अगल बगल के गांवों से बम्बईया लड़के लेकर अपने हुनर का टैलेंट सड़कों पर दिखाते हैं तो कुछ बाइकें नगर में हैं अब देखना यह है कि उक्त तेज आवाज की फर्राटेदार बाइकों से बिन्दकी नगर की जनता को कब आराम मिलेगी रात की नींदें कब वो सुकून से सो पाएंगे स्थानीय प्रशासन से पूछता है बिंदकी नगर !