कहीं पानी की किल्लत,तो कहीं प्रतिदिन बर्बाद होता हजारों लीटर पानी।

फतेहपुर। जी हाँ आज हम बात कर रहे हैं फतेहपुर जनपद के कस्बा बिन्दकी तहसील की जहाँ तहसील परिसर के बगल में स्थित पानी टंकी की जहाँ पर प्रतिदिन हजारों लीटर पीने योग्य पानी पालिका परिषद द्वारा बर्बाद किया जा रहा है एक तरफ उत्तर प्रदेश सरकार जल संचयन जल संरक्षण को लेकर नई नई नियमावली जारी कर पीने योग्य पानी को संरक्षित कर गर्मी के दिनों में सूखा जैसी दैवीय आपदा से निपटने के लिए तरह तरह के उपाय कर रही है व लोगों से जल संचयन व जल संरक्षण को लेकर पानी बचाने की अपील भी करोड़ो रूपये के बैनर पोस्टर मुख्य चैराहों में लगा व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अरबों रुपये का विज्ञापन लगा प्रचार प्रसार कर लोगों से अपील कर रही है तो वहीं दूसरी ओर नगर पालिका परिषद बिन्दकी द्वारा प्रतिदिन हजारों लीटर पानी व्यर्थ में बहाकर सरकार की मंशा को पलीता लगाने से बाज नहीं आ रही है नगर पालिका भले ही सरकार की गाइड लाइन के मुताबिक जल संचयन जल संरक्षण को लेकर जगह जगह विज्ञापन व अन्य प्रचार प्रसार के माध्यम से भले ही हजारों रुपये बर्बाद कर चुकी हो लेकिन खुद पालिका द्वारा नियमों का उल्लंघन करना सरकार की मंशा को चुनौती देना है आपको बताते चलें कि उक्त पानी टंकी के ही मेन गेट पर जल होगा,तभी तो कल होगा। जल ही जीवन है। पानी अमूल्य है कृपया इसे बर्बाद न करें। जैसे कई स्लोगन नगर पालिका परिषद बिन्दकी द्वारा लिखवाना तो महज एक ढोंग है इसकी असल हकीकत जब हमारे कैमरे में कैद हुई तो नगर पालिका की पोल खुल गयी पानी टंकी का ऐसी जगह पर होना जहाँ पर बिन्दकी मजिस्ट्रेट का कार्यालय महज लगभग 30 से 40 मीटर की दूरी पर स्थित होना उसके बाद भी पालिका द्वारा इतनी बड़ी लापरवाही करना मानो इन्हें किसी का डर ही न हो नियम कानून तो सिर्फ आम लोगों के लिए हैं इनके लिए कानून तो महज एक दिखावा है।