प्रभु यीशु के जीवित हो जाने की खुशी में ईस्टर का पर्व ईसाई धर्म के लोगों ने मनाया धूम धाम से

फतेहपुर। शहर के हरिहरगंज इलाके में गिरजाघर में आज प्रातः 5ः00 बजे से ईस्टर का पर्व मनाया गया पास्टर जामैन जोसेफ ने बताया कि प्रभु यीशु के जीवित हो जाने की खुशी में ईस्टर का पर्व ईसाई धर्म के लोगों के द्वारा बड़ी धूमधाम से मनाया जाता हैयीशु ने मुझ से प्रेम किया तेरे लिए अपना प्राण दिया नर्क से आत्मा को बचा लिया अनंत जीवन सबको दिया ओ आकाश अनु ग्रहण कारी प्रिय सू धर्मी होकर दुख वह सहारा दिया बैरी शैतान को मृत्यु पर यीशु विजई हुआ दूतों ने सुनाया समाचार यीशु जी उठा है जरूर जाकर बताओ यह समाचार गाते बजाते गाते जय जय कार हे जीवित परमेश्वर तेरी आराधना हम करें जीवन देने वाले तेरी आराधना हम करें मृत्यु को जीतने वाले तेरी आराधना हम करें जीवन का प्रभु है तेरी आराधना हम करें सब कुछ तो तेरा ही है मेरा तो है कुछ नहीं जो कुछ है सब एक तेरा ही नाम करता हूं मैं खुद को करूं मैं आराधना सांसो जो तूने दी है धड़कन ए तूने दी है घुटनों पर मैं गिरकर कहूं तेरे बिन मैं ना जी सकूं प्रभु यीशु को मानने वाले अनुयायियों ने सुबह 5रू00 बजे गिरजा घर पहुंच गए प्रभु यीशु के प्रवचन ओं को सुना व उनके जीवित होने की खुशी में सभी लोगों ने प्रभु यीशु की प्रार्थना की व उनके बताए हुए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया इस मौके पर पास्टर पादरी पाउल पास्टर अजय सैमुअल जोश प्रकाश डीजे मशीन विजय लाल वीकेडी लू कालक्रम की व्यवस्थापक जोली गिडीयन दत्ता ने आए हुए सभी ईसाई धर्म के अनुयायियों का स्वागत किया।