प्रतिबंधित शराब पीने से छह लोगों की दर्दनाक मौत, कोहराम

एडीजी प्रयागराज ने मातहतों को लगाई फटकार,डीएम तथा एसपी ने भी घटना स्थल का किया निरीक्षण

घटना में लापरवाह उदयपुर एसओ तथा लेखपाल पर गिरी निलम्बन की गाज

लालगंज,प्रतापगढ़:  प्रतिबंधित शराब पीने से पांच अनुसूचित जाति के लोगों की दर्दनाक मौत हो गयी। मौत से परिजनों में कोहराम मचा है। वहीं गांव में भी अफरा-तफरी का माहौल है। घटना की जानकारी होते ही पूरे जिले में हड़कम्प मच गया। प्रयागराज के एडीजी प्रेम प्रकाश भी कटरिया गांव पहुंचे और घटना को लेकर अफसरों से कड़ी नाराजगी जताई। एडीजी प्रेम प्रकाश ने  घटना को लापरवाही करार देते हुए जिला प्रशासन को कड़ी फटकार लगाई है। एडीजी प्रेमप्रकाश की डाट फटकार से अफसरों की घिग्गी बंधी दिखी। वहीं जिले के डीएम डांॅ0 नितिन बंसल व एसपी आकाश तोमर ने प्रशासनिक फौज के साथ गांव का दौरा कर स्थानीय प्रशासन को जमकर कर्रा किया। घटना को लेकर तत्काल प्रभाव से थानाध्यक्ष तथा क्षेत्रीय लेखपाल को निलंबित कर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक चार मौतों को लेकर शासन की भी नजर बेल्हा के प्रशासन पर तिरछी हुई है। एसडीएम तथा सीओ पर भी कार्यवाई की तलवार लटक रही है।

          प्रतापगढ़ जिले के उदयपुर थाना क्षेत्र के कटरिया गांव में प्रतिबंधित शराब पीने से दर्जन भर लोगों की हालत मंगलवार की देर रात गम्भीर हो उठी।इनमें से कटरिया निवासी रामखेलावन कोरी का पुत्र दिलीप कोरी (50) तथा उसका सगा भाई प्रदीप (35) एवं दिलीप तथा प्रदीप के मामा राॅकी निवासी सिद्व नाथ कोरी (60) की मौत हो गयी। चैथी मौत भी उदयपुर थाना के आहड़ बीहड़ के गिरिजा का पुरवा में राजकुमार प्रजापति (35) की हुई। वही पांचवी मौत कटरिया गांव के ही रतियापुर में रामकृपाल सरोज (45) की मौत दोपहर बाद सांगीपुर सीएसी में हो गयी। हालाकि समाचार भेजे जाने तक राजकुमार प्रजापति के शव का अंतिम संस्कार नही हुआ था और परिजन मौत को लेकर चुप्पी साधे रहे। इसके पहले मंगलवार को आहड़ बीहड़ गांव के किसन सरोज की भी मौत को आस-पास के लोग शराब पीने से बताते दिखे किन्तु परिजनों ने बुधवार को किसन का अंतिम संस्कार कर दिया। जिला प्रशासन भी शराब पीने से अब तक दिलीप तथा प्रदीप व सिद्वनाथ की मौत ही स्वीकार रहा है। मृतक दिलीप तथा प्रदीप की मौत मंगलवार की देर रात इलाज के दौरान प्रतापगढ़ जिला अस्पताल ले जाते समय हुई। जबकि सिद्वनाथ कोरी की मौत मुंशीगंज रायबरेली जिला अस्पताल से ले जाते समय रायबरेली में हुई। वही शराब पीने से गम्भीर रूप से बीमार कटरिया के धर्मेन्द्र सिंह का इलाज लखनऊ में चल रहा है। जबकि कटरिया के ओम प्रकाश (40) तथा इनके पिता शिव नारायण (65) भी गम्भीर रूप से बीमार है। ओम प्रकाश को बुधवार को हालत बिगड़ने पर चिकित्सकों ने सांगीपुर सीएचसी से जिला अस्पताल रेफर कर दिया। घटना की जानकारी होते ही बुधवार को इलाके में ही नही जिले में हड़कम्प मच गया। उदयपुर एसओ राकेश कुमार आनन-फानन में फोर्स के साथ कटरिया पहुंचे। इसके बाद सीओ जगमोहन तथा एसडीएम राम नारायण भी कटरिया पहुंच गये। पहले तो एसओ राकेश भारती शराब पीने से सगे भाईयों की मौत से किनारा कसते रहे। बाद में परिजनों के भी स्वीकार करने पर एसओ अफसरों के सामने निरूत्तर हो उठे दिखे। थोड़ी देर बाद जिले के एडीएम शत्रोहन वैश्य तथा एएसपी पश्चिमी दिनेश द्विवेदी भी गांव पहुंच गये। वही प्रयागराज के अपर आबकारी आयुक्त दिनेश सिंह व जिला आबकारी आधिकारी पार्थ रंजन भी मौके पर पहुंचे। दोपहर जिले के डीएम डां0 नितिन बंसल तथा एसपी आकाश तोमर भी गांव पहुंचे और घटना के तथ्यों को लेकर मातहतों से जानकारियां जुटाई। डीएम ने लापरवाही पर एसडीएम तथा सीओ को फटकार लगाई। वही क्षेत्रीय लेखपाल संजय यादव को निलंबित किये जाने का फरमान सुनाया। जिलाधिकारी ने राजस्व तथा पुलिस व आबकारी की संयुक्त टीम को प्रत्येक पुरवों में जाकर शराब पीने से बीमार लोगों को चिन्हित कर अस्पताल भेजवाये जाने के कड़े निर्देश दिये। डीएम ने आबकरी तथा पुलिस विभाग के जिम्मेदार अफसरों को थाना क्षेत्र तथा अगल बगल की लाइसेन्सी शराब की दुकानों के भी औचक निरीक्षण का निर्देश दिया। डीएम तथा एसपी आकाश तोमर ने मृतक के परिजनों से मिलकर संवदेना भी जताई तथा घटना के जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई का आश्वासन भी दिया। इधर क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना की ओर से प्रतिनिधि भगवती प्रसाद तिवारी तथा मीडिया प्रभारी ज्ञान प्रकाश शुक्ल ने गावं पहुंचकर मृतकों के परिजनों को सीडब्लूसी मेंम्बर प्रमोद तिवारी तथा कांग्रेस विधान मंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना की ओर हर सम्भव सहायता का भरोसा दिलाया। प्रतिनिधि भगवती प्रसाद ने घटना को लेकर आराधना मिश्रा मोना तथा प्रमोद तिवारी की ओर से मृतकों के परिजनों से मिलकर संवदेना भी जताई। इधर घटना को लेकर प्रयागराज के एडीजी प्रेमप्रकाश ने भी जिला पुलिस प्रशासन को कड़ी चेतावनी निर्गत की है। वही पुलिस ने घटना में मृतक दिलीप तथा प्रदीप व सिद्वनाथ कोरी के शव को पंचनामाकर पीएम के लिए भेजवाया है। पुलिस को मृतकों के पीएम रिपोर्ट का भी इंतजार है। इधर डीएम के निर्देश पर अपरान्ह बाद तहसीलदार श्रद्वा पाण्डेय भी मौके पर लेखपालों तथा राजस्व निरीक्षकों की टीम के साथ पहुंची और गांव गांव मुनादी करवाकर शराब से बीमार लोगों को चिहिन्त कराने में क्षेत्रीय लोगों से सहयोग मांगा। जिले में शराब पीने से चार मौतों को लेकर हड़कम्प मचा हुआ है। वही यह भी चर्चा है कि अभी पखवारे भर पहले जिले के सग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के रामपुर दाबी गांव में भी जहरीली शराब पीने से चार मौते हुई थी और एक दर्जन से अधिक लोग गम्भीर रूप से बीमार हुये थे। रामपुर दाबी की घटना में दो लोगों को तो आॅख की रोशनी से भी हाथ धोना पड़ा हैं । इसके बावजूद बेल्हा में खाकी की लापरवाही से एक बार फिर चार पांच जिन्दगियां मौत के आगोश में समा गई है।