मानव के लिए

चूहे बिल्ली की दौड़ मे,

और अमीरी की होड़ मे ।  

क्या क्या घटित हो रहा, 

इंसा इंसा को खो रहा ।                                        

 जिंदगी के किस दौर पर, 

ज़माने के किस छोर पर ।                                       

देश मे शांति का,

 कब आगमन होगा ।               

 हर पल प्रकृति आगाह करती, 

क्या होना तय करती ।                                     

मूँद कर आँखें फिर भी, 

मिटा रहे हैँ अपनी जमीं ।                                       

 पावन कर्तव्य हमारा, 

ऊँचा रहे झंडा हमारा ।     

शान इसकी बचाने को, 

तैयार हैँ शक्ति दिखाने को ।                                               

पर जो फैला है डर,

 मिटानी है इसकी जड़ ।       

  तमन्ना है मेरे दिल मे, 

मानव जिये मानव के लिए ।

पूनम  पाठक बदायूँ