भारत बने भारत अभियान कार्यक्रम सम्पन्न

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

पुणे। विडम्बना ही है कि भारत एक अकेला ऐसा देश है जिसके तीन तीन नाम हंैं- भारत, इण्डिया और हिन्दुस्तान।  अव से करोणों वर्ष पूर्व आदि तीर्थंकर आदि ब्रह्मा ऋषभदेव हुए। इस बात को वेदों में उल्लेख सहित विश्व के प्रायः सभी धर्म मानते हैं। ऋषभदेव ने ही मानव को असि, मसि, कृषि आदि षड्विद्यायें सिखाईं। उन्होंने अपने पुत्र भरत को राज्य सौंपकर सन्यास ग्रहण किया। महाराज भरत ने छह खण्ड पर लम्बे समय तक राज्य किया, परन्तु प्रमुख कन्द्र भारतवर्ष ही रहा। करोड़ों वर्षों का इतिहास किसी देश के पास नहीं, परन्तु भारतवर्ष में यह परम्परा चलती रही। उन्हीं ऋषभदेवपुत्र भरत के नाम पर हमारे देश का नाम भारत पड़ा। हम ‘इण्डिया’ जैसे थोपे गये नाम को क्यो ढो रहे हैं। हम अपने ऐतिहासिक नाम को ही आगे बढ़ाते हुए ‘एक देश की एक पहचान, भारत भारत और भारत ही नाम’ को अग्रेसित करते हुए आगे बढ़ें। ये विचार संत शिरोमणि 108 आचार्य श्री विद्यासागर महाराज जी के आशीर्वाद से दिगंबर जैन महिला महासमिति का अभियान ‘‘भारत बने भारत’’ के अंतर्गत शुभचिंतक फाउंडेशन ट्रस्ट पुणे द्वारा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 10 अप्रैल शनिवार को आनलाइन आयोजित भव्य कार्यक्रम में वक्ताओं ने रखे।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्राविका रत्न व्रत्ति श्रीमती सुशीला पाटनी शांता पाटनी एवं तारिका पाटनी जी थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री दिगंबर जैन महासमिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ मणीन्द्र जैन एवं महिला महासमिति की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती शीला डोडिया जी ने की। उन्होंने संस्था के अभियानों, गतिविधियों  से सबको अवगत कराया। आदरणीय डोडिया जी ने भारत बने भारत अभियान के प्रयोजनों पर प्रकाश डाला। मुख्य वक्ता के रूप में ब्रह्मचारिणी विजय लक्ष्मी दीदी जी एवं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जैन विदुषी डॉ नीलम जैन ने श्रोताओं को धर्म संस्कृति और भारत को इण्डिया कहने के दुष्परिणामों को बताया कार्यक्रम में राष्ट्रीयता और भारतीयता का गौरव गान प्रतिष्ठित कवियों सर्वश्री दिव्य कमल ध्वज, अमित झा राही, विनीत शंकर, आनंद सिंह, सत्यम् श्रीवास्तव ने किया एवं डॉ राज बुंदेली द्वारा भारत का गुणगान ओजस्विता के साथ किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ ममता जैन ने किया। दीप प्रज्वलन श्री स्वप्निल मुकुलिका शाह द्वारा किया गया, मंगलाचरण श्रीमती मीना अजमेरा द्वारा एवं देश भक्ति नृत्य श्रीमती सोनल जैन द्वारा किया गया। कार्यक्रम में श्री दिगंबर जैन महिला महा समिति के राष्ट्रीय पदाधिकारी श्रीमती संगीता कासलीवाल, डॉ वंदना जैन श्रीमती मंजू अजमेरा, सभी अंचल अध्यक्ष श्रीमती शालिनी बाकलीवाल राजस्थान, श्रीमती इंदू गांधी मध्य प्रदेश, श्रीमती शोभा ताई कर्नाटक, श्रीमती अलका तमिलनाडु, श्रीमती सुधा गंगवाल मंजू गोधा आसाम, श्रीमती शोभा जैन छत्तीसगढ़, प्रीति जबलपुर, महामंत्री श्रीमती डिंपल जैन युवा संभाग अध्यक्ष श्रीमती पूनम जैन, युवा प्रकोष्ठ महामंत्री श्रीमती मधु पाटनी जी नागपुर से श्रीमती ज्योति पाटनी, तकनीकी संयोजक श्री अक्षय जैन जी, महामंत्री श्री भागेश जैन जी सभी ने अपनी उपस्थिति से कार्यक्रम को अविस्मरणीय बनाया। शुभचिंतक फाउंडेशन ट्रस्ट के सभी सदस्य डॉ विपिन जैन श्री राजेश जैन श्रीमती स्मिता, श्रीमती विलास, श्री संदीप श्रीमती अलका गंगवाल, नीति जैन, श्री मोहित जैन सहित कार्यक्रम में अमेरिका के कैलिफोर्निया, फ्लोरिडा, अटलांटा आदि राज्यों, कनाडा व लंदन आदि देशों से भी श्रोताओं ने इस काव्य पाठ का आनंद लिया, स्लोगन एवं पोस्टर प्रतियोगिता के पुरस्कार भी घोषित किये गए और सभी ने भारत को भारत कहने का ही संकल्प लिया।

डाॅ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’,

22/2, रामगंज, जिन्सी, इन्दौर 9826091247