सूक्ष्म पोषक तत्वों से युक्त फसलों के सम्बंध में कार्यशाला सम्पन्न

बहराइच। ग्रामीण डेवलेपमेन्ट सर्विसेज (जी0डी0एस0), लखनऊ स्वयं सेवी संगठन द्वारा ब्लिस रिसार्ट, बहराइच में टाटा-कार्नेल इंस्टीट्यूट (काॅर्नेल विश्वविद्यालय, यू0एस0ए0) द्वारा समर्पित कृषि मार्ग से पोषण सम्बर्द्धन परियोजना ‘‘तरीना’’ के अन्तर्गत ‘सूक्ष्म पोषक तत्वों से युक्त’ फसलों को मुख्य धारा के समावेशित कराने हेतु पैरोकारी कार्यशाला का आयोजन किया गया। आयोजित कार्यक्रम में कोविड-19 के दृष्टिगत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार मास्क, सेनेटाइटजर एवं सोसल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। इस कार्यशाला का उद्देश्य ग्रीष्मकालीन मूॅगफली व नारंगी गूदे वाली शकरकन्द का बहराइच जिले में विस्तारीकरण कराना है। इस कार्यशाला के आयोजन में जी0डी0एस0-आई0टी0सी0 मिशन, ‘‘सुनहरा कल’’ कार्यक्रम का विशेष सहयोग रहा। कार्यशाला में मुख्य अतिथि के रूप में उप निदेशक कृषि, बहराइच डाॅ0 आर0के सिंह के साथ-साथ पारसनाथ, जिला उद्यान अधिकारी, बहराइच तथा कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक तथा कृषि विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने प्रतिभाग किया। 

दोनो ही फसलों को जिले में कृषि विभाग द्वारा अनुमोदित फल चक्र में समावेशित किया जाये। विशेषज्ञों द्वारा इसके प्रचार प्रसार हेतु प्रशिक्षण दिया जाय। दोनांे ही फसलों की खेती हेतु उपयुक्त प्रजातियों के बीज व लताओं का मिनीकिट के रूप में किसानों को निःशुल्क वितरण किया जाये। जिससे कृषि एवं उद्यान विभाग की प्रमुख भूमिका होगी। नारंगी एवं गूदे वाली शकरकंद व जायद की मूॅगफली को पोषण वाटिका में प्रमुख फसल के रूप में वरीयता दी जाए। नारंगी, गूदे वाली शकरकंद को आॅगनबाड़ी व प्राथमिक विद्यालयों के माध्यम से भोजन में शामिल किया जाए।

उक्त बिन्दुओं के दृष्टिगत डाॅ0 आर0के0 सिंह, उप निदेशक कृषि, बहराइच का सुझाव था कि नारंगी, गूदेवाली शकरकंद की नर्सरी कृषि प्रक्षेत्रों में आच्छादित की जाए तथा ग्रीष्म कालीन मूॅगफली और नारंगी गूदेवाली शकरकंद के विभिन्न प्रखण्डो में ंकिसान चिन्ह्ति कर सूची बद्ध करने की जिम्मेदारी प्रखण्ड अधिकारियों को दी जाये। पारसनाथ, जिला उद्यान अधिकारी, बहराइच ने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से 3000 वाटिकाओं में नारंगी एवं गूदेवाली शकरकंद को प्रमुखता से शामिल किया जायेगा तथा मिनीकिट को भी समावेशित करने की कार्य योजना जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी बहराइच को प्रस्तावित किया जायेगा। आयोजित कार्यक्रम में निखिल, कौशल विकास मिशन, डाॅ0 कपिल, पशुपालन विभाग, डाॅ0 रोहित पाण्डेय, डाॅ0 एस0पी0 सिंह, वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र, बहराइच एवं जी0डी0एस0 टीम से अमिताभ मिश्रा, प्रवीर बोस, श्रीमती शालिनी, राधा कृष्ण, बजरंग, चन्द्र भूषण एवं सौरभ श्रीवास्तव मौजूद रहे।