क्या डबल मास्क पहनने से होगी दोहरी सुरक्षा

भारत में कोरोना के मामले भारी गिनती में बढ़ रहे हैं। ऐसे में हर किसी को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की पालना करने के साथ मास्क पहनने की हिदायतें दी जा रही है। इसी बीच अमेरिकी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, कोरोना से बचने के लिए 2 मास्क लगाने का सलाह दी है। 2 मास्क पहनने को ‘डबल मास्किंग’ कहते हैं। 

डबल मास्क से मिलेगी दोगुनी सुरक्षा 

एक्सपर्ट्स के अनुसार, इससे इस वायरस से बचा जा सकता है। इसके साथ इसे सही तरीका से पहनना बेहद जरूरी है। मास्क को सही ढंक से पहनने से यह हवा के लीकेज से बचाने का काम करता है। साथ ही चेहरे पर दबाव को भी बैलेंस करते हैं। इसके साथ ही मास्क को सही तरीके से पहन कर ही कोरोना से बचाव किया जा सकता है। अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, सिर्फ सर्जिकल मास्क पहनने से कफ के छींटों में केवल 56.1 प्रतिशत बचाव रहता है। कपड़े का मास्क केवल 51. 4 प्रतिशत सुरक्षा करता है। इसके अलावा मास्क को गांठ लगा कर पहनने से इससे 77 प्रतिशत सुरक्षा मिलती है। वहीं दोनों को एक साथ पहनना ज्यादा फायदेमंद रहेगा। यह संक्रामक कणों से करीब 85.4 फीसदी तक बचाव करता है।

सही तरह से मास्क पहनना जरूरी

वहीं संक्रमण से बचने के लिए मास्क को सही तरीके से पहनना बेहद जरूरी है। इन्हें पहनकर सांस लेने में मुश्किल नहीं होनी चाहिए। असल में, डबल मास्क टाइट लग सकता है। इसके लिए बाहर जाने से पहने इसे घर पर पहन कर थोड़ी देर चलें। ताकि इसकी फिटिंग और आराम का पता चल सके। साथ ही बोलने में किसी भी तरह की कोई परेशानी ना हो। 

सही मास्क चुनें

डबल मास्किंग के लिए सर्जिकल या डिस्पोजेबल मास्क चुनें। इसके लिए एन-95 ना खरीदें। आप चाहे तो दो लेयर वाले कपड़े का मास्क पहन सकते हैं। इसके अलावा सर्जिकल मास्क के ऊपर कपड़े का मास्क भी पहना जा सकता है। साथ ही मास्क को सैनिटाइजर या किसी अन्य कैमिकल डिसइन्फेक्टेंट से साफ ना करें। साथ ही हमेशा साफ-सुथरा मास्क पहनने। गंदा व दूसरे का मास्क पहनने की गलती ना करें।

ऐसा मास्क पहनने से बचें

मास्क हमेशा फिटिंग व आराम वाला पहनेें। ढीला मास्क पहनने से बचें। अगर आपके मास्क से ऊपर से हवा (सांस) सही तरीके से निकल रही है तो समझ जाए इसकी फिटिंग सही है। इसके साथ तेजी से सांस लेने व हवा का दबाव आंखों पर पड़े तो इसका मतलब है कि डबल मास्किंग में भी हवा का फ्लो एकदम परफेक्ट है। 

ऐसी परिस्थिति में घर में भी पहने मास्क

कोरोना का दूसरा स्ट्रेस हवा से फैलता है। ऐसे में इससे बचने के लिए घर पर भी मास्क पहनें। इसके अलावा जिन लोगों में कोरोना के लक्षण है। मगर रिपोर्ट में इसकी पुष्टि ना हुई है। वे लोग कुछ दिनों तक क्वारंटीन रहे। इसके अलावा घर में कोई पॉजिटिव मरीज होेन पर खुद को भी संक्रमित समझकर घर पर ही रहे। साथ ही घर पर भी मास्क पहने। 

posted by -दीपिका पाठक