शरीर पर दिखे ये निशान तो अनदेखी ना करें, ब्लड कैंसर के बड़े संकेत

कई बार हम सिरदर्द या शरीर पर दिखने वाले मामूली निशानों को अनदेखा कर देते हैं लेकिन यह खतरे की घंटी हो सकते हैं... मायानगरी के लिए साल 2020 बेहद खराब साबित हुआ और इस साल भी एक बुरी खबर ने दस्तक दे दिया है। बॉलीवुड अभिनेत्री और राजनेत्री किरण खैर ब्लड कैंसर से जूझ रही हैं। चंडीगढ़ से बीजेपी प्रेसिडेंट अरुण सूद ने प्रेस कॉन्फ्रेस के जरिए ये जानकारी दी कि किरण के बाए हाथ में फ्रैक्चर हो गया था जिसके इलाज के दौरान उन्हें पता चला कि वह मल्टीपल माइलोमा नाम की बीमारी से जूझ रही हैं। यह एक तरह का ब्लड कैंसर है।

इम्यूनिटी कमजोर करता है यह कैंसर

माइलोमा प्लास्मा सैल्स को प्रभावित करता हैं, जिससे इम्यूनिटी कम होने लगती है। हड्डियां कमजोर होने लगती है व्यक्ति के शरीर में लगातार कैल्शियम की कमी होती जाती है।

इन संकतों समय रहते पहचाने बीमारी

1. ब्लड कैंसर की शुरुआत हो तो रोगी के मुंह, गले, चमड़ी और फेफड़ो में कई तरह की समस्याएं शुरु हो जाती है। वजन तेजी गिरना शुरू हो जाता है।

2. मरीज को थकान रहती है कमजोरी महसूस होती है। लाल रक्त कोशिकाएं कम होने लगती है जिससे खून की कमी हो जाती है।

3. हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द,पेट में सूजन, मल त्यागते समय दर्द और भूख कम होने लगती है। रोगी को बार बार बुखार हो सकता है।

4. से मामलों में शुरुआत में व्यक्ति को माइग्रेन पेन की शिकायत होती है।

5. अचानक उल्टियां या दस्त लगना, चमड़ी में खुजली, नीले धब्बे के निशान और जबड़ों में सूजन और खून का आना भी इसी के लक्षण हो सकते हैं।

ब्लड कैंसर का इलाज

इलाज की बात करें तो बता दें कि ब्लड कैंसर और दूसरे कैंसर में फर्क हैं। डॉक्टर के लिए यह जानना अहम चनौती होता है कि रोगी में ब्लड कैंसर कोशिकाओं का जन्म कैसे हुआ ? हालांकि विज्ञान ने इतनी तरक्की कर ली हैं कि कीमोथेरेपी व दवाइयों के जरिए इसे मात दी जा सकती है लेकिन कैंसर का शुरुआती स्टेज में पकड़े जाना बहुत जरूरी है।

कैंसर कोई भी इसका संबंध हमारे लाइफस्टाइल से ही है। हैल्दी खाएं पूरी नींद लें और खुद को प्रदूषित वातावरण से बचाएं। हल्की एक्सरसाइज करते रहे। तम्बाकू एल्कोहल से दूर रहे।

posted by -दीपिका पाठक