Assembly Polls 2021 Voting: तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में सिंगल फेज के तहत आज वोटिंग

नई दिल्ली: पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के तहत मंगलवार का दिन दक्षिण की राजनीति के लिए काफी बड़ा है. आज तमिलनाडु, केरल और केंद्रशासित प्रदेश पुदुच्चेरी में सिंगल फेज़ के तहत होने वाली वोटिंग हो रही है. तीनों जगहों पर मतदान प्रक्रिया सुबह 7 बजे से शुरू हो गई है. तमिलनाडु में जहां AIADMK जिससे बीजेपी का गठबंधन है और DMK, जिससे कांग्रेस का गठबंधन है, की निर्णायक लड़ाई हो रही है. डीएमके, मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी को सत्ता से उखाड़ने के पूरे प्रयास कर रही है. इन चुनावों में अभिनेता से नेता बने कमल हासन की पार्टी मक्कल निधि मय्यम पर भी नजरें हैं. पार्टी पहली बार चुनाव लड़ रही है. केरल में बीजेपी, कांग्रेस और लेफ्ट की लड़ाई है. राहुल गांधी ने यहां खूब प्रचार किया है. पुदुच्चेरी में कांग्रेस की सरकार गिर गई थी, जिसके बाद से राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है. ऐसे में बीजेपी-कांग्रेस दोनों ही सत्ता पाने की पुरजोर कोशिश में हैं.

सत्तारूढ़ पार्टी AIADMK यहां 191 सीटों पर खुद चुनाव लड़ रही है. उसके गठबंधन साथियों में PMK को 23 और बीजेपी को महज 20 सीटें मिली हैं. पीएम मोदी ने यहां कई बार रैलियां की हैं. DMK 188 सीटों पर लड़ रही है, उसकी गठबंधन साथी कांग्रेस 25 पर लड़ रही है, वहीं बाकी सीटें गठबंधन में शामिल छोटी पार्टियों को दी गई हैं.

कमल हासन की पार्टी 142 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. पार्टी ने बाकी 85 सीटें गठबंधन के अपने छोटे साथियों को दी हैं. इसके अलावा AIADMK की चीफ रह चुकीं शशिकला के भतीजे टीटीवी दिणाकरण ने भी अपनी पार्टी बनाई है- AMMK जो इस बार 165 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. उसकी गठबंधन की साथी DMDK 60 और बाकी की सीटों पर छोटे साथी लड़ रहे हैं.

केरल में भी 140 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो रहा है. मुख्यमंत्री पी विजयन के नेतृत्व में लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट फिर से सत्ता पाने की कोशिश में है. उनकी पार्टी सीपीएम 77 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. 21 सीपीआई और बाकी की सीटें दूसरे छोटे साथियों को दी गई हैं, जिसमें जनता दल सेकुलर को चार और शरद पवार की नेशनल कांग्रेस पार्टी को तीन सीटें मिली हैं. एलडीएफ 11 स्वतंत्र उम्मीदवारों को भी समर्थन दे रहा है. कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट कुल 93 सीटों पर लड़ रही है IUML 25 और केरल कांग्रेस 10 सीटों पर है. बीजेपी 113 सीटों पर और बाकी 21 BDJS को मिली हैं.

अगर तमिलनाडु की बात करें तो यहां कुल 234 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो रहा है. मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी, उपमुख्यमंत्री ओ पनीरसेलवम, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के अध्यक्ष एम के स्टालिन, अम्मा मक्कल मुनेत्र कषगम (एएमएमके) संस्थापक टीटीवी दिनाकरण और मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) प्रमुख कमल हासन सहित कुल 3,998 उम्मीदवार राज्य विधानसभा के चुनाव में अपनी राजनीतिक किस्मत आजमा रहे हैं.

कांग्रेस के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी की सरकार इस साल के शुरुआत में नाटकीय तरीके से गिर जाने के बाद से यहां राष्ट्रपति शासन लगा हुआ है. यहां 30 सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं. कांग्रेस 14 सीटों, गठबंधन की साथी डीएमके 13 और बाकी सीटों पर दूसरी छोटी पार्टियां लड़ रही हैं. बीजेपी ने यहां भी तमिलनाडु की तर्ज पर क्षेत्रीय पार्टी- AINRC के पीछे खड़े होने का फैसला किया है. पूर्व मुख्यमंत्री एन रंगास्वामी की पार्टी 16 सीटों पर और बीजेपी 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. बाकी सीटें गठबंधन साथी AIADMK को दी गई हैं.